आज विभाग में नहीं हुए हाजिर तो बर्खास्तगी तय, छह शिक्षकों को बीएसए ऑफिस ने नौ अप्रैल तक का दिया है अल्टीमेटम


गोरखपुर। जिले के छह शिक्षकों को बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से दिया गया अल्टीमेटम शुक्रवार को समाप्त हो जाएगा। इन सभी पर आरोप है कि इन्होंने कूटरचित यूपी टीईटी का अंक पत्र अन्य शैक्षिक सहारे नौकरी हासिल की है। अगर तय समय तक आरोपी शिक्षक विभाग में भौतिक रूप से उपस्थिति होकर अपने दस्तावेज का सत्यापन नहीं कराते हैं तो उन्हें बर्खास्त कर दिया जाएगा। सभी आरोपी शिक्षकों को पूर्व में ही विभाग ने निलंबित कर दिया था। बार-बार सत्यापन के लिए बुलाए जाने के बाद भी ये शिक्षक अपने शैक्षणिक प्रमाणपत्रों का सत्यापन नहीं करा रहे हैं।


बेसिक शिक्षा विभाग में कार्यरत

फर्जी शिक्षकों के खिलाफ दो वर्ष पूर्व एसटीएफ के छापे की कार्रवाई के बाद से ही इनके खिलाफ विभाग को शिकायतें मिलती रही हैं। जांच के बाद अब तक 79 फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त किया जा चुका है। वहीं इनके खिलाफ संबंधित थाना में मुकदमा दर्ज कराकर वेतन रिकवरी की कार्रवाई भी शुरू की जा चुकी है । 20 से अधिक शिक्षकों के खिलाफ जांच चल रही हैं। इनमें से ज्यादातर निलंबित हैं। जांच पूरी होने के बाद इनपर बर्खास्तगी की कार्रवाई होगी जांच पूरी करने के लिए इन्हें अपने दस्तावेज के साथ विभाग में उपस्थित होने के लिए पत्राचार किया जा रहा है मगर आरोपी सत्यापन के लिए नहीं आ रहे हैं। आजिज आकर विभाग ने इनकी सेवा समाप्ति को लेकर आखिरी नोटिस जारी किया है।


इन शिक्षकों को मिला नोटिस

प्राथमिक विद्यालय टेकवार बांसगांव के आत्म प्रकाश पांडेय, प्राथमिक विद्यालय बैजूडीहा ब्रह्मपुर के अजय कुमार सिंह, पूर्व माध्यमिक विद्यालय देवकली कौड़ीराम के राजेंद्र प्रसाद, प्राथमिक विद्यालय बड़िहारी गगहा के अरविंद कुमार, प्राथमिक विद्यालय बेला पिपराइच के राम सागर चौधरी और प्राथमिक विद्यालय महुआपार सहजनवां की मालती देवी।