तबादले की प्रक्रिया ठप होने से नाराज हैं शिक्षक, 2016 से जनपद के भीतर नहीं हुए ब्लॉक स्तरीय स्थानांतरण

प्रयागराज:- 

परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों को अब तक जिले के भीतर तबादले की प्रक्रिया शुरू होने का इंतजार है। शासन से आश्वासन मिला था कि इस बार गर्मी की छुट्टियां शुरू होने पर स्थानांतरण की भी प्रक्रिया शुरू हो जाएगी पर ऐसा नहीं हुआ। इससे शिक्षकों में रोष है। प्रयागराज में 2016 के बाद से एक ब्लाक से दूसरे ब्लाक में स्थानांतरण नहीं हुआ है।


शिक्षकों ने कहा, लगातार की जा रही है उपेक्षा

प्रशिक्षित शिक्षक प्रशिक्षित स्नातक एसोसिएशन के जिला संयुक्त मंत्री अफरोज अहमद ने बताया कि शिक्षकों का पद जिले कैडर का है। जिले के शिक्षकों को प्राथमिकता मिलनी चाहिए। शासन की तैनाती नियमावली 2010 के अनुसार पहले पांच साल पुरुष शिक्षकों की नियुक्ति पिछड़े व दूर दराज के गावों में की जाती है। उसके बाद शिक्षकों को उनकी निकट के किसी विकासखंड में तैनाती दी जा सकती है। प्रयागराज में यह प्रक्रिया पांच साल से ठप है। शिक्षक नेता बिजेंद्र सिंह ने बताया कि कई ऐसे अध्यापक दंपती हैं जो अलग अलग विकासखंड में लंबे समय से शिक्षण कार्य कर रहे हैं। कुछ लोग गंभीर बीमारियों से भी ग्रसित हैं और दूर दराज के गावों में अध्यापन के लिए जाने को विवश हैं। उनकी सुनवाई नहीं हो रही है।