आरटीई में बच्चों की न फीस मिली, न ही सालाना खर्च


लखनऊ। आरटीई के तहत वित्तविहीन विद्यालयों में दाखिला लिए छात्रों की ना स्कूलों को फीस प्रतिपूर्ति मिली हैं और ना ही अभिभावकों को 5000 रुपये सालाना खर्च उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षक संघ, वित्तविहीन विद्यालय प्रकोष्ठ ने शनिवार को सांसद कौशल किशोर को ज्ञापन सौंपकर शासन से जल्द फीस प्रतिपूर्ति की रकम दिलवाने की मांग की है।

मीडिया प्रभारी अभिषेक कुमार सिंह ने बताया कि पिछले साल सत्र 2020-21 में जितने भी छात्रों को दाखिला दिया गया उनमें से किसी की भी फीस प्रतिपूर्ति स्कूलों को नहीं की गई। कई बार विभाग से जानकारी ली गई। विभागों ने कई बार खाते और छात्रों की संख्या भी अपडेट कराई, लेकिन रकम खाते में नहीं आई। हर बार विभाग यही कहता रहा कि फीस को लेकर बजट नहीं आया। उन्होंने यह भी बताया कि अभिभावकों को सालाना 5000 रुपये दिए जाने वाला खर्च भी नहीं दिया गया। प्रतिनिधिमंडल में मोहम्मद हारून अजीज, अयोध्या प्रसाद, आशुतोष मिश्र, मोहम्मद रिजवान समेत कई शामिल रहे।