गायब मिले 10 शिक्षक, बीएसए ने 17 शिक्षक, शिक्षामित्र और अनुदेशकों से मांगा स्पष्टीकरण


ज्ञानपुर। कोरोना की दूसरी लहर के बाद स्कूल खुल चुके हैं। इसी के साथ स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति भी अनिवार्य हो गई है, लेकिन अधिकतर शिक्षक, अनुदेशक और शिक्षामित्र बिना सूचना के स्कूल नहीं आ रहे हैं। नए बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेंद्र नारायण सिंह और मंडल समन्वयक एमडीएम राकेश तिवारी के निरीक्षण में 10 शिक्षक, चार अनुदेशक और तीन शिक्षामित्र अनुपस्थित मिले। सभी को नोटिस भेजकर एक सप्ताह में स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया गया है।


जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेंद्र नारायण ने मंगलवार को बैराखास, कोइलरा, प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालय कंसापुर का निरीक्षण किया। इस दौरान शिक्षक दिनेश गुप्ता, अनुदेशक प्रिया श्रीवास्तव अनुपस्थित रहीं। इसके पूर्व सोमवार को औराई के
चकलाला, विक्रमपुर कला, लक्षमणिया, ढोढ़वा के प्राथमिक, पूर्व माध्यमिक और कंपोजिट स्कूल को देखा। जहां अनुदेशक कृष्ण कुमार यादव, प्रिया श्रीवास्तव, पूनम देवी, शिक्षिका मृदुला गुप्ता, मंजूलता सिंह, जितेंद्र कुमार द्विवेदी, अरविंद कुमार, विनय कुमार सिंह, संगीता यादव अनुपस्थित रहे। मंडल समन्वयक एमडीएम राकेश तिवारी ने भी सोमवार को भदोही ब्लॉक के ममहर, दरूनहां, मूसी और डीघ के सीखापुर स्कूल को देखा। जहां शिक्षामित्र अनुलेश कुमार, उमाशंकर पटेल, सीमा राय, शिक्षक बृजेंद्र सिंह, सत्य प्रकाश सिंह गायब मिले। मंडल समन्वयक की रिपोर्ट पर बीएसए ने सभी शिक्षकों, अनुदेशकों और शिक्षामित्रों से 26 जुलाई तक स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया। चेतावनी दिया कि जवाब न मिलने पर वेतन रोकने की कार्रवाई होगी।