बेसिक शिक्षा:- दूसरे के अभिलेखों पर 11 साल से नौकरी कर रहा फर्जी शिक्षक बर्खास्त

बस्ती:- 

बेसिक शिक्षा विभाग के परिषदीय स्कूल में दूसरे के अभिलेखों पर फर्जी तरीके से सहायक अध्यापक बन 11 साल तक नौकरी करने का एक और मामला सामने आया है। बीएसए जगदीश शुक्ल ने फर्जीवाड़े के खुलासे के बाद रुधौली ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय सिहरीखुर्द में कार्यरत आरोपी प्रधानाध्यापक प्रवीण कुमार जायसवाल को बर्खास्त कर दिया है। साथ ही वेतन रिकवरी और मुकदमा दर्ज कराने का खंड शिक्षा अधिकारी रुधौली को आदेश दिया है।


बीएसए कार्यालय के अनुसार जिले के रुधौली ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय सिहरीखुर्द में प्रधानाध्यापक पद पर कार्यरत प्रवीण कुमार जायसवाल का सहायक अध्यापक पद पर चयन 2010 में हुआ था। छह माह पूर्व एसटीएफ को शिकायत मिली कि प्रवीण ने किसी दूसरे के अभिलेखों का प्रयोग कर नौकरी हासिल की है। एसटीएफ ने जांच शुरू की तो सामने आया कि असली प्रवीण कुमार जायसवाल जनपद गोरखपुर के ब्रहमपुर ब्लॉक के प्राइमरी विद्यालय बौउठा में कार्यरत हैं। उनके ही अभिलेखों की मदद से बस्ती में तैनात अध्यापक ने नौकरी हासिल कर ली है।


इसकी रिपोर्ट एसटीएफ बीएसए बस्ती को भेजी। इसके आधार पर बीएसए ने रुधौली ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय सिहरीखुर्द में कार्यरत प्रधानाध्यापक को अपना पक्ष रखने की नोटिस जारी की जांच के साथ ही स्कूल से फर्जी प्रधानाध्यापक गायब हो गया। बीएसए जगदीश शुक्ल ने आरोपी प्रधानाध्यापक को बर्खास्त करते हुए मुकदमा दर्ज कराने का आदेश जारी कर दिया।


एसटीएफ की जांच में प्राथमिक विद्यालय सिहरीखुर्द में प्रधानाध्यापक पद पर कार्यरत प्रवीण कुमार जायसवाल का फर्जीवाड़ा सामने आया। फर्जी शिक्षक को बर्खास्त कर वेतन रिकवरी व केस दर्ज कराने का आदेश जारी कर दिया गया है। जगदीश शुक्ल, बीएसए