नियुक्ति की मांग को लेकर शिक्षक अभ्यर्थियों का प्रदर्शन, लगा जाम: ओबीसी कोटे की 18598 सीट में से मात्र 2637 सीटें दी गईं

लखनऊ: 69 हजार सहायक शिक्षक भर्ती प्रकरण में शामिल ओबीसी और एससी वर्ग के अभ्यर्थियों ने सोमवार सुबह बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी के आवास पहुंच प्रदर्शन किया। बड़ी संख्या में ओबीसी और एससी वर्ग के अभ्यर्थियों ने पहले राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी), फिर शिक्षा मंत्री के डालीगंज स्थित आवास का घेराव कर नियुक्ति दिए जाने की मांग की। इसके बाद अभ्यर्थियों ने बीजेपी दफ्तर का रुख किया। जहां मौजूद पुलिस ने उन्हें वहां से खदेड़ दिया।


प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों ने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट में भर्ती प्रक्रिया में 5844 सीटों का आरक्षण घोटाला होने की बात स्वीकार की है। आयोग ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट में कहा है कि ओबीसी वर्ग को 21 प्रतिशत आरक्षण नहीं मिला है। ओबीसी कोटे की 18598 सीटों में से मात्र 2637 सीट दी गईं। वह भर्ती में ओबीसी वर्ग को 27 प्रतिशत तथा एससी को 21 प्रतिशत आरक्षण न दिए जाने से नाराज हैं। अभ्यर्थियों का कहना है कि इस भर्ती प्रक्रिया में ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण की जगह महज 3.86 प्रतिशत आरक्षण मिला है।

अभ्यर्थियों का कहना था कि राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग में जितने भी अभ्यर्थियों ने लिखित शिकायत दर्ज कराई है, उन सभी अभ्यर्थियों को समायोजित किया जाए। इसके अलावा उन अभ्यर्थियों को भी समायोजित किया जाए, जिन्होंने भर्ती प्रक्रिया को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। अभ्यर्थी शहर के अलग-अलग स्थानों पर देर शाम तक डटे रहे।