एई-2019 भर्ती: एक रोल नंबर के मिले दो उत्तर पत्रक

 प्रयागराज : उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग की एई यानी सम्मिलित राज्य अभियंत्रण सेवा परीक्षा-2019 में बड़ी गड़बड़ी सामने आयी है। शील्ड पैकेट में एक ही रोल नंबर के दो उत्तर पत्रक जमा किए गए थे। इस पर आयोग ने केंद्र पर्यवेक्षक व संबंधित अभ्यर्थी को पक्ष रखने के लिए बुलाया। दोनों का पक्ष लिखित व मौखिक रूप से लिया गया। वहीं, जांच में गड़बड़ी होने की पुष्टि होने पर अभ्यर्थी को आयोग की समस्त परीक्षाओं से डिबार कर दिया गया है। संबंधित केंद्र अधीक्षक, निरीक्षक, प्रबंधक को आयोग की समस्त परीक्षाओं से बाहर करने की कार्रवाई की गई है। साथ ही दूसरे आयोगों को भी आवश्यक समुचित कार्रवाई करने के लिए पत्र भेजा जाएगा। वहीं, विद्यालय की मान्यता खत्म करने के लिए शासन को पत्र लिखा जाएगा।


लोकसेवा आयोग ने सम्मिलित राज्य अभियंत्रण सेवा-2019 के तहत 648 पद की भर्ती का विज्ञापन 30 दिसंबर को जारी किया। अभ्यर्थियों से 30 जनवरी-2020 तक सिविल, मैकेनिकल, एग्रीकल्चर, इलेक्टिकल आदि ब्रांचों के लिए आनलाइन आवेदन लिया गया था। पांच जिलों में 292 केंद्रों पर 13 दिसंबर 2020 को परीक्षा आयोजित की गई। प्रयागराज में बाबू जेआरडी पाल इंटर कालेज मनसैता (केंद्र कोड-03/88) केंद्र के पर्यवेक्षक ने द्वितीय सत्र के शील्ड पैकेट में एक ही अनुक्रमांक के दो उत्तर पत्रक जमा किए थे। जांच में मामला सही पाए जाने पर आयोग ने सिविल लाइंस थाना में एफआइआर दर्ज कराई थी। उक्त भर्ती का अंतिम परिणाम 26 मार्च 2021 को जारी हुआ। कुल पदों के सापेक्ष 580 अभ्यर्थी सफल हुए। आयोग ने 25 जून को चयन संस्तुति की फाइल शासन को भेज दी। आयोग के परीक्षा नियंत्रक अर¨वद कुमार मिश्र का कहना है कि यूपीपीएससी अपनी परीक्षाओं की शुचिता व अनियमितता से समझौता नहीं करता है। यही कारण है कि जांच के बाद गड़बड़ी मिलने पर यह कार्रवाई की गई है।

संबंधित खबर 9

गड़बड़ी

’>>लोकसेवा आयोग की जांच में सही मिला मामला

’>>विद्यालय की मान्यता खत्म करने को शासन को लिखेंगे