स्कूल में मिले 20 बच्चे, शिक्षक का एक माह का वेतन रोका: शासन आदेशों के विरुद्ध मिले बच्चे

 उन्नाव: हाल ही में जिले को मिले नए बीएसए परिषदीय अध्यापकों पर निरीक्षण का शिकंजा कसे हुए हैं। शनिवार को फिर स्कूलों की जांच करने निकले बीएसए जय सिंह को एक विद्यालय में शासन के आदेशों के विरुद्ध अनियमितता मिली। बीएसए को विद्यालय में 20 बच्चे मिले। जबकि, फिलहाल कोरोना संक्रमण के कारण बच्चों की स्कूल में उपस्थिति नहीं होनी है।


शनिवार को सिकंदरपुर कर्ण ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय सुपासी का बीएसए सिंह ने आकस्मिक निरीक्षण किया। जहां सशि शिवानी गुप्ता, आयुषी कटियार, शिक्षामित्र कौशल्या देवी उपस्थित रही। जबकि प्राशि जितेंद्र सिंह, सशि रेनू यादव, विनीता देवी व शिक्षामित्र स्नेहलता अनुपस्थित मिले। विद्यालय परिसर में साफ-सफाई का हाल खराब व शौचालय गंदा पाया गया। किचन में आवश्यक सामग्री न मिलने व पत्र व्यवहार पंजिका में पांच अप्रैल के बाद कोई अंकन नहीं पाया गया। जिसकी सही सूचना न देने पर आयुषी कटियार को नोटिस देकर तीन दिन में स्पष्टीकरण तलब किया गया। अनुपस्थित मिले पांच शिक्षकों का का वेतन काटा गया। प्रावि करौंदी का निरीक्षण करने पर प्राशि सुरेखा सिंह सहित पूरा स्टाफ उपस्थित मिला। सशि जगन्नाथ ने हस्ताक्षर बीएसए के सामने ही करने का प्रयास किया। जबकि, प्राशि ने सशि जगन्नाथ का हस्ताक्षर कालम रिक्त रखा था। साथ ही विद्यालय में अव्यवस्थाओं का मकड़जाल बिछा रहा और बच्चों की उपस्थिति का आदेश न होने पर 20 बच्चे स्कूल में पाए गए। बीएसए ने सशि का एक दिन का वेतन काटा है।

’ अनुपस्थित मिले पांच शिक्षकों का भी बीएसए ने काटा वेतन

’>>प्राथमिक स्कूल करौंदी में शासन आदेशों के विरुद्ध मिले बच्चे