परिषदीय स्कूल में तैनात महिला शिक्षक ने क्यों दी जान, उठ रहे सवाल

सिद्धार्थनगर : परिषदीय स्कूल में तैनात महिला शिक्षक प्रतिभा सिंह ने गुरुवार को जान दे दी। घटना का कारण न तो स्वजन बता पा रहे और न पुलिस। मोबाइल काल डिटेल और विवेचना के बाद ही पुलिस किसी नतीजे पर पहुंच सकती है। उसका शव छत की ग्रिल में बंधे दुपट्टे से लटका मिला था।


शिक्षिका की तैनाती बर्डपुर ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय बनकटवां में 2016 से रही। वह बर्डपुर के पल्टा देवी मार्ग पर किराये के मकान में पति अखिलेश सिंह और बच्चे के साथ रहती थी। विद्यालय में बन रहे नए भवन के प्रभारी का जिम्मा उसके पास था। दिन में पति स्कूल पर कार्य देखने चले गए, इसी बीच उसने अपनी जान दे दी। वह फतेहपुर जिले की अबुनगर ककरहा गांव की निवासी थी।


मायका और ससुराल पक्ष के लोग उसे बेहद सीधी होना बता रहे हैं। अब सवाल यह है कि आखिर कौन सी परिस्थिति आ गई कि उसने आत्महत्या कर ली। प्रथम दृष्टया स्वजन भी इसे आत्महत्या ही मान रहे हैं।

घटना के दिन वह स्कूल नहीं गई थी। दोपहर में एक बजे पति ने मोबाइल पर काल किया तो रिसीव नहीं हुआ। इसके बाद पड़ोसी के नंबर पर काल किया। पड़ोसी युवक दरवाजे पर गया तो अंदर से बंद मिला। खिड़की के रास्ते अंदर देखा तो शव लटक रहा था। उसका करीब दो वर्ष का बच्चा अंदर रो रहा था। बाद में पड़ोसियों ने दरवाजा तोड़कर बच्चे को बाहर निकाला था। प्रतिभा ने अंतिम बार अपने मायके में 26 जून को फोन पर बात की थी। उस वक्त उसने किसी समस्या का जिक्र नहीं किया था। शिक्षिका के चाचा राजकुमार ने बताया कि फोन पर बातचीत में उसने कोई ऐसी बात नहीं कही, जिससे जान देने की कोई वजह सामने आए। मौत के चार घंटे पूर्व ससुर से बात की थी। उसने सब कुछ ठीक होने की जानकारी दी थी। ससुराल पक्ष के लोगों का कहना है कि घर में सब कुछ सामान्य था, उसने जान क्यों दी, इसका पता नहीं चल पा रहा है।