लखनऊ में तैनात शिक्षक के नाम पर कर रहा था नौकरी, पकड़ा गया तो हुआ बर्खास्‍त


प्राथमिक विद्यालय सुर्ती खेड़ा -1 माल लखनऊ में तैनात शिक्षक के नाम पर देवरिया में नौकरी कर रहे फर्जी शिक्षक को बीएसए ने बर्खास्त कर दिया। फर्जी शिक्षक का वास्तविक नाम जयकुमार सिंह पुत्र स्व. भरत सिंह भटनी थाना क्षेत्र के बगुसरा (पयासी) गांव का रहने वाला बताया जा रहा है। बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारी बरहज को मुकदमा दर्ज कराने व प्रथम नियुक्ति तिथि से अबतक किए गए वेतन भुगतान की वसूली का निर्देश दिया है।


बीएसए देवरिया को मामले से अपर शिक्षा निदेशक बेसिक ने कराया था अवगत

अपर शिक्षा निदेशक बेसिक लखनऊ ने 24 सितंबर 2020 को दूरभाष व पांच अक्टूबर 2020 को लिखित रूप से बीएसए देवरिया संतोष कुमार राय को अवगत कराया कि बरहज ब्लाक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय हरनौठा में तैनात सहायक अध्यापक सुनील कुमार सिंह से संबंधित विवरण मानव संपदा पोर्टल पर फीड किए जाने पर एक ही नाम, पिता का नाम, जन्मतिथि व विश्वविद्यालय का विवरण लखनऊ जनपद में भी प्रदर्शित हो रहा है। उन्होंने जांच का निर्देश दिया।


शिक्षक ने नहीं दिया संतोषजनक जवाब

बीएसए के निर्देश पर संबंधित शिक्षक ने 25 सितंबर 2020 को आधार व पैन कार्ड की मूल प्रति प्रस्तुत की, लेकिन आयकर रिटर्न की प्रति उपलब्ध नहीं कराई और न ही संतोषजनक जवाब दिया। हालांकि लिखित रूप से बताया कि उसका वास्तविक नाम जयकुमार सिंह पुत्र भरत सिंह है। वह भटनी थाना क्षेत्र के बागुसरा (पयासी) गांव का रहने वाला है। शैक्षिक अभिलेखों के आधार पर फर्जी व कूटरचित तरीके से बेसिक शिक्षा विभाग में नौकरी प्राप्त करने की प्रथम नजर में पुष्टि हुई। इसके बाद उनका वेतन तत्काल बाधित करते हुए जांच शुरू कर दी गई। बीएसए ने बीईओ बरहज व भटनी पुलिस से नाम, पता का सत्यापन कराया। जिसमें वास्तविक नाम जयकुमार ङ्क्षसह पुत्र भरत ङ्क्षसह व बगुसरा पयासी के निवासी होने की पुष्टि हुई।


फर्जी शिक्षक को किया गया बर्खास्‍त

बीएसए संतोष कुमार राय ने कहा कि फर्जी शिक्षक को बर्खास्त कर दिया गया है। लखनऊ में तैनात एक शिक्षक के नाम पर फर्जी तरीके से नौकरी कर रहा था