बेसिक विद्यालयों में ऑनलाइन पढ़ाई के साथ मुहल्ला कक्षाएं, कक्षाओं में न आने वालों की होगी काउंसिलिंग

लखनऊ : प्रदेश के प्राथमिक स्कूलों की जगह अन्य सार्वजनिक स्थानों पर अब मुहल्ला कक्षाएं भी चलेंगी। वहां छात्र-छात्रओं को नियमित बुलाया जाएगा और कोविड-19 प्रोटोकाल का अनुपालन करते हुए पढ़ाई कराई जाएगी। इसमें विद्यालय के प्रधानाध्यापक, प्रबंध समिति के सदस्य व अभिभावकों का विशेष सहयोग लिया जाएगा। ये पहल प्रेरणा साथी के माध्यम से शिक्षक करेंगे। वहीं, विद्यार्थियों की आनलाइन पढ़ाई भी जारी रहेगी।


बेसिक शिक्षा परिषद के प्रदेश में डेढ़ लाख प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय हैं। कोरोना संक्रमण की पहली व दूसरी लहर में प्राथमिक स्कूल बंद रहे। छात्र-छात्रओं की आनलाइन कक्षाएं चलती रही हैं। स्कूल बंद होने से शिक्षक व विद्यार्थियों का जुड़ाव नहीं हो रहा था। इसीलिए पहले प्रेरणा साथी का चयन किया गया जो स्वेच्छा से बच्चों को पढ़ाई के लिए अपना स्मार्ट फोन मुहैया कराए। स्कूलों में प्रेरणा साथी का चयन होने के बाद आनलाइन पढ़ाई में तेजी आई है, क्योंकि अधिकांश बच्चों के अभिभावकों के पास स्मार्ट फोन नहीं था। समग्र शिक्षा का राज्य परियोजना निदेशालय मिशन प्रेरणा की ई-पाठशाला को प्रभावी बना रहा है। इसीलिए अब मुहल्ला कक्षाएं शुरू कराई जा रही हैं।

मिशन ई-पाठशाला
कक्षाओं में न आने वालों की होगी काउंसिलिंग
कहा गया है कि जो अभिभावक बच्चों को मुहल्ला कक्षाओं में नहीं भेज रहे हैं या वे अनियमित रूप से आ रहे हैं, ऐसे परिवारों को चिन्हित किया जाए और होम विजिट के माध्यम से उनकी काउंसिलिंग करते हुए बच्चों की प्रतिभागिता सुनिश्चित की जाए।