विशेष नोट व स्पष्टीकरण:-👉 Updatemarts.com नाम से मिलती-जुलती वेबसाइट से सावधान रहें, ये सभी नकली हैं, 🙏वेबसाइट प्रयोग करते समय Updatemarts के आगे डॉट .com अवश्य चेक कर लें, धन्यवाद

विद्यार्थी भाव ही बनाएगा योग्य शिक्षक: योगी

लखनऊ : उप्र लोकसेवा आयोग से चयनित माध्यमिक विद्यालयों के 2846 प्रवक्ता और सहायक अध्यापकों को गुरुवार को पदस्थापन व नियुक्ति पत्र दिए गए। यहां लखनऊ से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 11 शिक्षकों को नियुक्त पत्र देकर कार्यक्रम की आनलाइन शुरुआत की। उन्होंने शिक्षकों को पाठ पढ़ाया कि पढ़ने-सीखने की भूख मिटे नहीं, विद्यार्थी भाव ही योग्य शिक्षक बनाएगा। इस भर्ती प्रक्रिया में प्रवेश पत्र से नियुक्ति पत्र तक सिफारिश न चलने का दावा करते हुए गरजे कि पिछली सरकारों में भ्रष्टाचार का बोलबाला था।

लोकभवन सभागार में आयोजित कार्यक्रम में योगी ने कहा कि वर्ष 2017 में सत्ता संभालने के बाद भर्तियों की बाधाओं को दूर कर निष्पक्ष व पारदर्शी प्रक्रिया लागू की गई। साढ़े चार वर्ष के कार्यकाल में साढ़े चार लाख युवाओं को सरकारी नौकरी दी जा चुकी है। पांच वर्ष पूरे होने पर पांच लाख नौजवानों को नौकरी दी जा चुकी होगी। इससे कई गुना अधिक नौजवानों को निजी क्षेत्र में रोजगार व स्वरोजगार उपलब्ध करा दिया जाएगा। उन्होंने दावा किया कि बेसिक, माध्यमिक, उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग में शिक्षकों के डेढ़ लाख पद भरे गए हैं। नई शिक्षा नीति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताते हुए सीएम ने तमाम उपलब्धियां गिनाईं। कहा कि यह सुधार पहले भी हो सकते थे, लेकिन पिछली सरकारों की नीयत नहीं थी।


नवचयनित शिक्षकों से मुखातिब मुख्यमंत्री का कहना था कि भर्ती प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी रही, इसलिए आप सभी से भी सरकार को उम्मीद है। शिक्षक का दायित्व अत्यंत महत्वपूर्ण है। विद्यार्थियों के सामने एक रोल माडल बनें। छात्र उसी शिक्षक को जीवन भर याद रखता है, जो व्यवस्थित ढंग से पढ़ाता है। योगी ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, रोजगार आदि क्षेत्रों में अन्य जिलों से पीछे रह गए सिद्धार्थनगर, बलरामपुर, श्रवस्ती, बहराइच, चंदौली, सोनभद्र, चित्रकूट और फतेहपुर आकांक्षात्मक जिले हैं। यहां नियुक्त होने वाले शिक्षकों को अतिरिक्त परिश्रम करना होगा। बच्चों की शिक्षा के साथ ही उनके पोषण व स्वास्थ्य का भी ध्यान रखा जाना चाहिए। शिक्षक का शासन की योजनाओं से परिचित होना भी जरूरी है, जिससे वह इन योजनाओं से विद्यार्थियों को परिचित कराने के साथ ही आवश्यकतानुसार उन्हें लाभान्वित भी करा सकें।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को योजना भवन में पूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा की प्रतिमा का अनावरण किया। इस दौरान उनके साथ उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह, उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, लोक सभा सदस्य रीता बहुगुणा जोशी, कानून मंत्री ब्रजेश पाठक और नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन भी उपस्थित रहे ’ जागरण

गर्व करेंगे कि आप योगी कार्यकाल में नियुक्त हुए: डा. दिनेश शर्मा

विभागीय मंत्री एवं उपमुख्यमंत्री डा.दिनेश शर्मा ने कहा कि अभी नियुक्ति पाने वाले शिक्षक गर्व से कह सकेंगे कि योगी कार्यकाल में नियुक्ति पाई, जब प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी थी। आपको अलग नजर से देखा जाएगा। शिक्षा और परीक्षा व्यवस्था में आए बदलावों का जिक्र करते हुए कहा कि दूसरे राज्यों के लिए यूपी माडल बन चुका है। साथ ही नवनियुक्त शिक्षकों को सलाह दी कि अब जाकर ईमानदारी से अध्यापन के काम में जुटें और मनचाही नियुक्ति के लिए सिफारिश के चक्कर में न पड़ें। कार्यक्रम को बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सतीश चंद्र द्विवेदी, माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री गुलाब देवी और विभाग की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने भी संबोधित किया।

primary ka master