विशेष नोट व स्पष्टीकरण:-👉 Updatemarts.com नाम से मिलती-जुलती वेबसाइट से सावधान रहें, ये सभी नकली हैं, 🙏वेबसाइट प्रयोग करते समय Updatemarts के आगे डॉट .com अवश्य चेक कर लें, धन्यवाद

199 पदों पर शिक्षक भर्ती शुरू, यूजीसी रेगुलेशन 2018 के अनुसार होगी भर्ती

लखनऊ : लखनऊ विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर के 199 स्थाई पदों पर भर्ती के लिए आनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। अभ्यíथयों के पास वेबसाइट https://www.lkouniv.ac.in/ के माध्यम से 30 सितंबर तक आवेदन का मौका है। भर्ती यूजीसी 2018 के रेगुलेशन और हाल ही में जारी नए शासनादेश के अनुसार होगी। गुरुवार को विश्वविद्यालय प्रशासन ने इसके विस्तृत निर्देश वेबसाइट पर जारी कर दिए हैं।


डीन रिक्रूटमेंट प्रो. मनुका खन्ना ने बताया कि विश्वविद्यालय ने भर्ती के लिए 87 असिस्टेंट प्रोफेसर, 70 एसोसिएट प्रोफेसर और 42 प्रोफेसर के पदों पर आवेदन का विवरण जारी किया है। सामान्य और ओबीसी के लिए 1,500 रुपए तथा एससी-एसटी वर्ग के लिए 1,200 रुपए आवेदन शुल्क रखा गया है। विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर विषयवार पदों का ब्योरा भी अपलोड कर दिया गया है।

असिस्टेंट प्रोफेसर को पढ़ाकर भी दिखाना होगा : प्रो.मनुका खन्ना के मुताबिक इस बार असोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर के पद पर चयन के लिए सिर्फ इंटरव्यू होगा, जबकि असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए लिखित परीक्षा, इंटरव्यू और पीपीटी प्रजेंटेशन के साथ साथ उन्हें पढ़ाकर भी दिखाना होगा। वहीं, विश्वविद्यालय ने 16 दिसंबर 2020 को शिक्षकों की भर्ती के लिए 180 स्थाई पदों पर विज्ञापन जारी कर आवेदन की प्रक्रिया शुरू की थी, लेकिन राजभवन ने पारदर्शिता लाने के लिए इस पर रोक लगाते हुए मई 2021 के शासनादेश के अनुसार प्रक्रिया अपनाने के आदेश दिए। इसकी वजह से विश्वविद्यालय ने विज्ञापन निरस्त कर दिया था। अब फिर से विज्ञापन जारी कर आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जिन अभ्यíथयों ने उस समय आवेदन किया था, उन्हें योग्यता आदि जोड़ने के लिए मौका दिया जाएगा।

विश्वविद्यालय शिक्षक संघ ने उठाई आपत्ति

लखनऊ विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (लूटा) ने शिक्षक भर्ती के लिए जारी विज्ञापन के कई ¨बदुओं पर आपत्ति जताई है। लुटा अध्यक्ष डा. विनीत वर्मा का कहना है कि पिछले और इस बार के विज्ञापन में काफी अंतर है। पिछले विज्ञापन में शिक्षा शास्त्र में सहायक प्रोफेसर के पद शामिल किए गए थे, इस बार नहीं हैं। इसे स्पष्ट किया जाना चाहिए। लूटा की मांग है कि विश्वविद्यालय अपने रोस्टर रजिस्टर को वेबसाइट पर प्रकाशित करे।