अ. प्रोफेसर भर्ती की परीक्षा आज:एडेड डिग्री कालेजों में 2003 पदों के लिए उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने निकाली भर्ती; प्रवेशपत्र के लिए उच्चतर शिक्षा आयोग के गेट पर जड़ा ताला

प्रयागराज : अशासकीय सहायता प्राप्त (एडेड) डिग्री कालेजों में असिस्टेंट प्रोफेसरों की कमी दूर होगी। भर्ती के लिए उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा चयन आयोग 2003 पदों पर तीन चरणों में परीक्षा करा रहा है। पहले चरण की परीक्षा शनिवार को दो पालियों में कराई जाएगी, जिसमें कुल 33038 परीक्षार्थी शामिल होंगे। इसके लिए प्रयागराज में 33 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। नकल विहीन परीक्षा कराने के पर्याप्त प्रबंध किए गए हैं। कुल 47 विषय में यह रिक्तियां उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने विज्ञापन संख्या-50 के तहत निकाली हैं। दूसरे चरण की परीक्षा 13 नवंबर और तीसरे चरण की 28 नवंबर को कराई जाएगी। शनिवार को होने वाली पहले चरण की पहली पाली में 16462 व दूसरी पाली में 16576 अभ्यर्थियों को परीक्षा कराई जाएगी। इसमें 16 विषयों के अभ्यर्थी शामिल होंगे। पहली पाली की परीक्षा का समय सुबह नौ से 11 बजे निर्धारित है। इसमें रसायन विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, पशुपालन, कृषि अर्थशास्त्र, कृषि प्रसार, कृषि सांख्यिकीय, बीएड व शारीरिक शिक्षा विषय के अभ्यर्थी शामिल होंगे। दूसरी पाली में संस्कृत, भूगोल, कृषि रसायन, कृषि वनस्पति, कृषि प्रौद्योगिकी, वाणिज्य, मानव विकास, महिला शिक्षा विषय की परीक्षा होगी। दूसरी पाली की परीक्षा का समय दोपहर दो से चार बजे तक है। नकल विहीन परीक्षा के लिए आयोग की जिला व पुलिस प्रशासन के साथ बैठक हो चुकी है। परीक्षार्थी सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में होंगे। सेक्टर व स्टैटिक मजिस्ट्रेट भी तैनात किए गए हैं।


दो पालियों में आयोजित हो रही परीक्षा के लिए 33038 अभ्यर्थियों ने किया है आवेदन

प्रवेशपत्र के लिए उच्चतर शिक्षा आयोग के गेट पर जड़ा ताला राज्य ब्यूरो, 

प्रयागराज : अशासकीय सहायता प्राप्त (एडेड) डिग्री कालेजों में भर्ती के लिए 30 अक्टूबर को होने वाली असिस्टेंट प्रोफेसर पद की परीक्षा सैकड़ों अभ्यर्थियों के मुसीबत बन गई। आवेदन के समय दो हजार रुपया शुल्क जमा करने के बाद उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग की वेबसाइट से उनका प्रवेशपत्र डाउनलोड नहीं हो रहा है। आयोग कह रहा है कि आवेदन में गड़बड़ी के कारण उनका डाटा उपलब्ध नहीं है, जबकि अभ्यर्थी मोबाइल में यह प्रमाण दिखा रहे हैं कि उनका आवेदन सफल रूप से स्वीकृत हुआ है। उसके बाद आवेदन में मामूली त्रुटि वाले 1786 अभ्यर्थियों के आवेदन स्वीकृत मानकर शुक्रवार को प्रवेश पत्र वेबसाइट पर अपलोड कर दिए गए। आयोग की सचिव डा. वंदना त्रिपाठी का कहना है कि जिन अभ्यर्थियों ने फीस भरते समय रजिस्ट्रेशन आइडी गलत भर दी, उनका डाटा नहीं मिल रहा।