पीसीएस 2021 प्री परीक्षा आधे से अधिक प्रतियोगी छात्रों ने छोड़ी

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) की पीसीएस, एसीएफ-आरएफओ यानी सम्मिलित राज्य/ प्रवर अधीनस्थ सेवा, सहायक वन संरक्षक/क्षेत्रीय वन अधिकारी-2021 प्रारंभिक परीक्षा को लेकर अभ्यर्थियों में अपेक्षा से कम उत्साह रहा। प्रदेश के 31 जिलों में 1505 केंद्रों पर रविवार को दो पालियों में इम्तिहान कराया गया। इसमें अभ्यर्थियों की उपस्थिति 46 प्रतिशत रही। उक्त भर्ती के लिए 6,91,173 अभ्यर्थियों का पंजीकरण था, लेकिन 3,21,063 ही परीक्षा में उपस्थित रहे। सूबे में सबसे अधिक 64 प्रतिशत उपस्थिति प्रयागराज में रही। प्रयागराज में पंजीकृत 60,886 अभ्यर्थियों में 39,457 इम्तिहान में शामिल हुए।


उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने पीसीएस, एसीएफ-आरएफओ-2021 के तहत 554 पदों की भर्ती निकाली है। इसमें पीसीएस के 538 तथा एसीएफ-आरएफओ के 16 पदों पर भर्ती होनी है। प्रारंभिक परीक्षा को नकलमुक्त बनाने के लिए आयोग ने विशेष तैयारी की थी। मोबाइल के जरिए पेपर लीक की संभावना को खत्म करने के लिए हर परीक्षा केंद्र पर जैमर लगाया गया था। केंद्र के बाहर किसी के रुकने पर पाबंदी थी। जिला स्तर पर संवेदनशील केंद्र चिह्नित किए गए थे। वहां पुलिस-प्रशासन के साथ आयोग की टीम लगातार औचक निरीक्षण करती रही।


उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के सचिव जगदीश ने बताया कि पीसीएस, एसीएफ-आरएफओ-2021 की प्रारंभिक परीक्षा शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुई है। प्रदेश के किसी भी केंद्र में हंगामा, पेपर लीक का मामला सामने नहीं आया है।
नए नियम से कराई जा रही है परीक्षा : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग पीसीएस, एसीएफ-आरएफओ-2021 की भर्ती नए नियम से करवा रहा है। पदों के सापेक्ष मुख्य परीक्षा के लिए 15 और साक्षात्कार को तीन गुना अभ्यर्थी सफल किए जाएंगे। जब उक्त भर्ती का विज्ञापन निकला था तब मुख्य परीक्षा के लिए 13 गुना व साक्षात्कार के लिए दो गुना अभ्यर्थी पास करने का नियम था। बीते दिनों आयोग ने भर्ती परीक्षाओं में नियम में बदलाव किया था। नए नियम को इस भर्ती में भी लागू किया गया है।