विद्यांजलि योजना 2.0 के अंतर्गत सरकारी स्कूलों में शिक्षा के साथ-साथ अन्य जरूरतों को पूरा करने के लिए अब आम जन भी कर सकेंगे सहयोग


रामपुर। अब सरकारी स्कूलों में शिक्षा के साथ-साथ अन्य जरूरतों को पूरा करने के लिए अब आम जन भी सहयोग कर सकेंगे। इसके लिए 'विद्यांजलि योजना 2.0' शुरू की गई है। जिससे स्कूलों में बच्चों के लिए सुविधा देने के लिए समाज के लोग आगे आ सकेंगे। शासन द्वारा शुरू की गई इस योजना में बच्चों को पढ़ाने लिखाने से लेकर उनके
खाने-पीने से जुड़ी सुविधाओं को जुटाने और स्कूल के बुनियादी ढांचे को सुदृढ़ करने में मदद की जा सकेगी। शासन ने शैक्षिक विकास की चिंता करने के बजाय लोगों को बच्चों की मदद करने का अवसर सरकार ने दिया है। गांव के लोगों की उम्मीदें स्कूलों से जुड़ी हैं। ऐसे में समाज के लोगों का जुड़ाव स्कूलों से है और लोग अब मदद भी कर सकेंगे। इसमें गांव के प्रतिष्ठित व्यक्ति व्यापारी, बैंकर्स, पत्रकार, अधिवक्ता समेत राजनीतिक व्यक्ति भी स्कूलों की जरूरतों को पूरा करके खुद से शैक्षिक विकास से जोड़ सकेंगे।
योजना के तहत पूर्व छात्र, सेवानिवृत्त शिक्षक, वैज्ञानिक, बैंक कर्मी, सेना और अर्धसैनिक बलों से जुड़े लोग, सेल्फ इंप्लायड, प्रोफेशनल्स, स्किल से जुड़ा कोई भी व्यक्ति या सामान्य व्यक्ति, कंपनी, संस्था आदि इसमें अपने तरीके से सहयोग दे सकेंगे। योजना के तहत बच्चों को पढ़ाने लिखाने से लेकर उनके खाने पीने सेजुड़ी सुविधाओं को जुटाने और स्कूल के बुनियादी ढांचे को सुदृढ़ करने में मदद की जा सकेगी।

शिक्षा निदेशक बेसिक द्वारा सभी जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए हैं।