शिक्षक भर्ती: असिस्टेंट प्रोफेसर: एक पद-दावेदार 87

देश की सबसे प्रतिष्ठित प्रशासनिक सेवा के लिए होने वाली संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा (आईएएस) और प्रदेश की सबसे बड़ी सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (पीसीएस) में लगातार निराशा मिलने के कारण हिंदी भाषी और हिंदी पट्टी के प्रतियोगी छात्रों को अब शिक्षक भर्ती से उम्मीदें बंधी हैं। उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग की ओर से प्रदेश के अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में पांच साल बाद असिस्टेंट प्रोफेसर के 2003 पदों पर की जा रही भर्ती के आवेदन से यह साफ है।

शिक्षक भर्ती

● हिंदी के 162 पदों के लिए 14166 उम्मीदवार मैदान में
● 2003 पदों के लिए 96330 अभ्यर्थियों ने किए आवेदन
इसमें हिंदी के प्रत्येक पद के लिए औसतन 87 दावेदार हैं। असिस्टेंट प्रोफेसर के 162 पदों के लिए 14166 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। ये संख्या इसीलिए भी महत्व रखती है क्योंकि असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए वही आवेदन कर सकता है जिसने या तो 2009 के विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के रेगुलेशन के अनुसार पीएचडी की हो या फिर नेट क्वालीफाई हो। इससे पहले सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में प्रशिक्षित स्नातक हिंदी के 1956 पदों के लिए 93994 (प्रत्येक पद पर 48) और प्रवक्ता के 410 पदों पर 54270 (प्रत्येक पद पर 132) अभ्यर्थियों ने किया था।

असिस्टेंट प्रोफेसर के कई विषयों में कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने को मिल रही है। प्राचीन इतिहास के 24 पदों के लिए 3630 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। यानि एक सीट पर 151 दावेदार हैं। शिक्षाशास्त्रत्त् के 40 पदों के लिए 4903 आवेदन मिले हैं। यानी इसमें एक सीट के लिए 123 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे।