परिषदीय विद्यालयों में दूषित पानी पीने को बच्चे मजबूर चहारदीवारी और शौचालय का भी अभाव

कुशीनगर: डिवनी बंजरवा कायाकल्प योजना के तहत परिषदीय स्कूलों की तस्वीर बेहतर करने के लिए विद्यालयों में 18 पैरामीटर पर कार्य होना है। लेकिन जिम्मेदारों की उदासीनता के चलते तमकुहीराज क्षेत्र के कई परिषदीय विद्यालयों में अभी तक बाउंडी, पेयजल, बिजली समेत अन्य जरूरी कार्य नहीं हो सके हैं। इसके चलते विद्यालय में नामांकित छात्र-छात्राओं व शिक्षकों को परेशानी हो रही है। क्षेत्र के विद्यालयों में शुद्ध पेयजल की व्यवस्था नहीं होने से स्कूल के बच्चे दूषित पानी पीते हैं।



कान्वेंट स्कूलों को मात देने को परिषदीय विद्यालयों में कायाकल्प योजना के तहत जिला पंचायत राज्य अधिकारी, बेसिक शिक्षा विभाग समेत अन्य विभागों के सहयोग से स्कूल में बाउंड्रीवाल, शिक्षण कक्ष के फर्श की टाइलीकरण, मल्टीपल हैंडवाश, शौचालय, शुद्ध पेयजल, बिजली कनेक्शन समेत अन्य कार्य कराने हैं। लेकिन अभी तक तमकुहीराज क्षेत्र के कई स्कूलों में बाउंड्रीवाल का निर्माण शुद्ध पेयजल के लिए जरूरी संसाधन उपलब्ध कराने के अलावा बिजली कनेक्शन तक नहीं हो सका है। 

पूर्व माध्यमिक विद्यालय लतव मुरलीधर में अभी तक शुद्ध पेयजल की व्यवस्था नहीं हो सकी है। स्कूल परिसर में लगे इंडिया मार्का हैंड खराब है। इस पंप पर साधारण हैंडपंप का हेड लगाकर किसी तरह कार्य चलाया जा रहा है। इससे दूषित पानी निकलता है। इसके चलते विद्यालय में नामांकित छात्र-छात्राओं को दूषित पानी पीना पड़ता है। इस विद्यालय पर एक अनुदेशक समेत दो शिक्षक तैनात हैं। मंगलवार को विद्यालय पर तैनात अनुदेशक जितेंद्र अनुपस्थित मिले। प्रधानाध्यापक बसी अहमद ने बताया पुस्तकें वितरित कर दी गई हैं।


प्राथमिक विद्यालय कोटवा अहिरौली में लगे सभी इंडिया मार्का हैंडपंप खराब है। इसमें से भी दूषित पानी निकलता है। प्रधानाध्यापक रोना श्रीवास्तव ने बताया विभाग की तरफ से पुस्तकें मिली हैं। इसका वितरण कराया जा रहा है। माधोपुर बुजुर्ग के मंझरिया टोला स्थित प्राथमिक विद्यालय मे भी शुद्ध पेयजल का अभाव है। इस विद्यालय में ग्राम सभा की तरफ से लगी आरओ वाटर मशीन बीते कई दिनों से खराब है। इसके चलते छात्र छात्राएं घर से बोतल में पानी लेकर स्कूल आते हैं। प्रधानाध्यापक विनय यादव ने बताया स्कूल उपलब्ध संसाधन की जानकारी विभाग को दे दी गई है। पूर्व माध्यमिक विद्यालय मोरवन मठिया में तो अभी तक बाउंड्री ही का निर्माण ही नहीं हो सका है। गांव के सरेह में संचालित इस विद्यालय में चाहरदीवारी नहीं होने से शिक्षकों और छात्रों में हमेशा असुरक्षा की आशंका बनी रहती है। इसके अलावा इस विद्यालय में अभी तक बिजली का कनेक्शन भी नहीं लग सका है। प्रधानाचार्य निशा श्रीवास्तव ने बताया विद्यालय में सभी जरूरी संसाधन उपलब्ध कराने के लिए प्रयास किया जा रहा है। शीघ्र ही बाउंड्री समेत अन्य सुविधाएं पूर्व माध्यमिक विद्यालय लतवा स्थित प्राथमिक विद्यालय में भी शुद्ध उपलब्ध करा ली जाएंगी। बीईओ अंकिता सिंह ने कहा कि स्कूल संबंधित विभाग को पत्र भेजा गया परिसर में शुद्ध पेयजल और है। शीघ्र ही सभी जरूरी कार्य करा बाउंड्रीवाल की व्यवस्था के लिए लिए जाएंगे।