बीएसए के रुख से शिक्षकों में भड़का जबरदस्त आक्रोश, स्कूलों में ताला लगाकर धरना पर बैठे हजारों शिक्षक



बलिया। बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय परिसर में तीन दिनों तक लगातार धरना-प्रदर्शन के बाद जब मांगें नहीं मानी गयी तब प्राथमिक शिक्षक संघ के आह्वान पर जनपद के शिक्षक, शिक्षामित्र, अनुदेशक व रसोईया विद्यालयों में ताला बन्दी कर बीएसए कार्यालय पर धरने के लिए पहुंच गए।



मांगे ना माने जाने पर प्राथमिक शिक्षक संघ ने प्राथमिक व जूनियर हाईस्कूलों में सोमवार को ताला बंद रखने की घोषणा की थी। विद्यालय बन्द रखने पर कल बीएसए ने अनुशासनात्मक कार्रवाई की चेतावनी भी दी थी। इस चेतावनी ने शिक्षकों का आक्रोश और बढ़ा दिया। सुबह 11 बजे के निर्धारित समय पर बीएसए कार्यालय शिक्षकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों व रसोईयों से खचाखच भर गया । देखते-देखते कार्यालय परिसर में हजारों की भीड़ इकठ्ठा हो गयी । बीएसए के खिलाफ नारेबाजी से परिसर गूंज उठा। कुछ को छोड़कर जिले के सभी परिषदीय स्कूल बंद रहे।

प्राथमिक शिक्षक संघ के इस धरने के समर्थन में सीनियर बेसिक शिक्षक संघ, कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति, आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन, उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ, अनुदेशक संघ, रसोईया संघ आदि का समर्थन मिला है । संगठन का आरोप है कि बीएसए लगातार वित्तीय घोटाले कर रहे हैं, स्कूलों के जांच के नाम पर शिक्षकों का उत्पीड़न किया जा रहा है। साथ ही अकारण शिक्षकों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा रही है। शिक्षक आर्थिक व मानसिक रूप से उत्पीड़ित हो रहे हैं।

धरने पर जितेन्द्र सिंह, सीनियर बेसिक शिक्षक संघ से सुशील पाण्डेय 'कान्ह जी', अजय मिश्रा, डाॅ राजेश पाण्डेय, तेज प्रताप सिंह, नमोनारायण सिंह, संतोष पाण्डेय, सुनील सिंह, चन्दन सिंह, तुषारकान्त राय, अनिल राय, सुधीर श्रीवास्तव, धनन्जय सिंह, अवनीश राय, विकास सिंह, अखिलेश सिंह'शक्ति', रणजीत सिंह, अनिल श्रीवास्तव, विद्यासागर दुबे, सुरेश आजाद, सतीश चन्द्र वर्मा, गणेश जी सिंह, करुणानिधि तिवारी, अजय सिंह छूरी, अजय सिंह, राधेश्याम पाण्डेय, समरजीत सिंह, सन्तोष दीक्षित, टुन टुन प्रसाद, पंकज सिंह, अखिलेश सिंह, वसुन्धरा राय, आरती देवी, पूनम रानी, रीना पाण्डे, स्नेहलता सिंह, संगीता पाण्डे, विभा सिंह, रीता केशरी साथ हजारों की संख्या में अध्यापक, शिक्षामित्र, अनुदेशक व रसोईया उपस्थित रहे ।