सर्वर डाउन होने से धीमा पड़ा डीबीटी का कार्य, शिक्षक परेशान

पीलीभीत: इस बार परिषदीय स्कूलों में नामांकित बच्चों के लिए यूनीफार्म, जूता-मोजा, बैग का रुपया सीधे उनके अभिभावक के बैंक खाते में भेजा जाएगा। इसको लेकर डायरेक्टर बेनीफिट ट्रांसफर (डीबीटी) का कार्य किया जा रहा है। पिछले कई दिनों से सर्वर डाउन होने से यह कार्य बेहद धीमा पड़ गया है। इससे शिक्षक परेशान हैं। बताते हैं कि पूरनपुर बीआरसी से जिले पर अब तक 19222 बच्चों का ही सही डाटा पहुंच सका है। जबकि बीआरसी क्षेत्र के स्कूलों में तकरीबन 52982 बच्चे नाम अंकित बताए जा रहे हैं।


बेसिक शिक्षा परिषद से संचालित परिषदीय स्कूलों के बच्चों को योजनाओं का लाभ देने के लिए इस बार बदलाव किया गया है। अब तक बच्चों को यूनीफार्म, जूता-मोजा और बैग शासन से उपलब्ध कराए जाते थे लेकिन इस बार बच्चों के अभिभावकों के खाते में सीधे रुपया पहुंचेगा। अभिभावक स्वयं अपने बच्चों के लिए यूनीफार्म, जूता-मोजा और बैग खरीदेंगे। बच्चों को इन योजनाओं का लाभ जल्द मिले इसको लेकर विभागीय स्तर से डीबीटी का कार्य तेजी से कराया जा रहा है। पूरनपुर बीआरसी की बात करें तो क्षेत्र में 69 कंपोजिट, 73 उच्च प्राथमिक और 255 प्राथमिक परिषदीय स्कूल संचालित हैं। इनमें करीब 52982 बच्चे नामांकित हैं। इन सभी बच्चों का डाटा फीड होना है। बताते हैं कि सर्वर डाउन रहने से डीबीटी का कार्य धीमा पड़ गया है। कई गलतियां भी हो रही हैं। इससे शिक्षक परेशान हैं। जानकारी के अनुसार बीआरसी से अब तक जिले पर 19222 बच्चों का डाटा पहुंचा है। जबकि 13573 बच्चों का डाटा पेंडिंग है। वहीं करीब 32799 बच्चों का डीबीटी एप पर डाटा इंट्री होनी शेष है। बताते हैं कि शासन स्तर से 15 अक्टूबर तक डीबीटी का कार्य पूरा होने के निर्देश हुए थे लेकिन नहीं हो सका है। पूरनपुर बीआरसी के जिम्मेदार भी डीबीटी का कार्य 80 प्रतिशत से अधिक होने का दावा कर रहे हैं लेकिन सच्चाई इससे अलग ही है। इस संबंध में बीईओ एमएल वर्मा का कहना है कि सर्वर डाउन होने से कुछ दिक्कतें आ रही हैं।