सक्रिय राजनीति में हिस्सा लेने वाले पदाधिकारी छोड़े राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद: तिवारी

लखनऊ : राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष जेएन तिवारी ने परिषद को राजनीतिकरण की प्रक्रिया से अलग रखने की अपील की है। उन्होंने यह भी कहा कि कर्मचारी एकजुट होकर राजनीति करने वाले कर्मचारी नेताओं को बाहर का रास्ता दिखाएं। इस संबंध में 31 अक्टूबर को बैठक में आंदोलन का निर्णय लिया जाएगा।


असल में, परिषद के राजनीतिकरण का रास्ता स्व. बीएन सिंह के समय में खुला था जब वे परिषद का अध्यक्ष रहते हुए विधान परिषद सदस्य भी बन गए और उन्होंने एमएलसी होने के बाद भी परिषद का अध्यक्ष पद नहीं छोड़ा। उसी तर्ज पर अब संयुक्त परिषद के एक और गुट के अध्यक्ष जो पहले एमएलसी का चुनाव लड़े ,उस समय उन्होंने भाजपा से साठगांठ करने का बहुत प्रयास किया लेकिन, असफल होने के बाद अब उन्होंने सपा का दामन थाम लिया है। जेएन तिवारी ने कहा कि कर्मचारियों का भला किसी भी पार्टी से होने वाला नहीं है। सपा ने अपने शासनकाल में पुरानी पेंशन बहाल नहीं किया।