केंद्रीय गैरसरकारी कर्मियों की मजदूरी में बढ़ोतरी, इन्हें मिलेगा लाभ

, नई दिल्ली : सभी केंद्रीय कर्मचारियों व पेंशनभोगियों के महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी के बाद सरकार ने केंद्रीय विभागों में काम करने वाले गैरसरकारी कर्मचारियों को भी दीपावली का तोहफा दिया है। श्रम मंत्रलय ने इन कर्मियों की न्यूनतम मजदूरी बढ़ा दी है। इसके तहत रोजाना मजदूरी कम से कम 377 रुपये निर्धारित की गई है। वहीं, 864 रुपये प्रतिदिन की सबसे अधिक मजदूरी होगी। पिछले कुछ समय के दौरान लगातार बढ़ रही महंगाई को देखते हुए यह बदलाव किया गया है। यह फैसला पहली अक्टूबर से प्रभावी माना जाएगा और इससे 1.5 करोड़ कर्मचारियों को फायदा मिलेगा। केंद्र सरकार से जुड़े सभी विभाग, रेलवे प्रशासन, खनन, आयल फील्ड्स और सार्वजनिक कंपनियों में काम करने वाले गैरसरकारी कर्मचारियों को इस फैसले का लाभ मिलेगा।


केंद्रीय श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव ने बताया कि 1.5 करोड़ श्रमिकों को फैसले से लाभ मिलेगा। न्यूनतम मजदूरी दर में एरिया के हिसाब से बदलाव किया गया है। सभी एरिया को ए, बी और सी श्रेणी में बांटा गया है। निर्माण क्षेत्र के गैर-कुशल कामगार को ‘ए’ श्रेणी एरिया में रोजाना 654 रुपये तो ‘बी’ श्रेणी एरिया में रोजाना 546 रुपये तो सी श्रेणी में 437 रुपये रोजाना मिलेंगे। उच्च-कुशल कामगार को ए श्रेणी एरिया में 864 रुपये, बी श्रेणी एरिया में 795 रुपये तो सी श्रेणी एरिया में 724 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से भुगतान किया जाएगा।

कृषि क्षेत्र में काम करने वाले अकुशल श्रमिकों को ए श्रेणी एरिया में 417 रुपये, बी श्रेणी एरिया में 380 रुपये तो सी श्रेणी में 377 रुपये रोजाना की न्यूनतम मजदूरी होगी। खनन क्षेत्र में खदान के अंदर काम करने वालों को खदान के बाहर काम करने वालों से अधिक मजदूरी मिलेगी। खदान में काम करने वाले अकुशल कामगार को 546 व उच्च श्रमिक को 851 रुपये मिलेंगे।

377 रुपये न्यूनतम और 864 रुपये अधिकतम होगी दैनिक मजदूरी

1.5 करोड़ श्रमिकों को होगा फायदा, फैसला पहली अक्टूबर से माना जाएगा प्रभावी

इन्हें मिलेगा लाभ

केंद्रीय विभागों में निर्माण, सड़कों के रखरखाव, हवाई पट्टी, बिलिं्डग संचालन, सफाई, लो¨डग-अनलो¨डग, खनन, कृषि जैसे क्षेत्रों में अनुसूचित रोजगार के तहत काम करने वाले कर्मचारी इस फैसले से लाभान्वित होंगे।