बीईओ को बचाने का प्रयास, शिक्षकों पर गिरी गाज: बीईओ के वाहन चालक द्वारा छात्रा के दुष्कर्म का प्रकरण

गाजीपुर:मरदह थाना के कम्पोजिट विद्यालय मरदह के परिसर में छात्रा के दुष्कर्म के प्रकरण में अधिकारियों को बचाकर कर्मचारियों पर कार्रवाई की गाज गिर रही है। दुष्कर्म के मामले में जांच के दायरे में बीईओ मरदह कल्पना पर कार्रवाई और सबंद्धीकरण की संस्तुति के बाद अधिकारी ढाल बनकर खड़े हैं। मामले में एक शिक्षक राजेश भारती को निलंबित कर दिया गया है साथ ही स्कूल के अन्य टीचरों को प्रतिकूल प्रविष्टि जारी की गई है। सूत्रों की माने तो शिक्षकों पर बीईओ मरदह की आख्या के आधार पर हुइ है। वहीं सहायक अध्यापक राजेश भारती को मनिहारी ब्लाक के कम्पोजिट विद्यालय तिलेसड़ा से सम्बद्ध कर दिया गया है।






मरदह के कंपोजिट विद्यालय परिसर में 8 अक्टूबर को छात्रा से बीईओ कल्पना के वाहन चालक ने दुष्कर्म किया था। शिक्षकों की मौजूदगी में आरोपी ने वारदात की। घटना के बाद पीड़ित छात्रा के पिता द्वारा मरदह थाना के बरेनंदा गांव निवासी डब्लू राम उर्फ मुन्ना राम के खिलाफ तहरीर देकर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था। तहरीर में आरोप लगाया था कि आरोपी मरदह बीईओ कल्पना की गाड़ी का चालक है वह उसी को साथ लेकर विद्यालयों की जांच करती है। उक्त बोलेरो गाड़ी सहायक अध्यापक राजेश भारती की है । विद्यालय की प्रधानाध्यापिका सत्यवती को बीएसए ने निलंबित करने के साथ ही बीईओ मरदह कल्पना को कार्यालय सम्बद्ध करने का आदेश निर्गत कर जिलाधिकारी गाजीपुर को संतुति के लिए प्रेषित किया और तीन एबीएसए की एक जांच कमेटी का गठन किया। अब तक बीईओ मरदह के कार्यालय से सम्बद्ध करने की संस्तुति के पत्र पर कोई कार्रवाई नही हुई है, पीड़ित पक्ष का मानना है बीईओ के पद पर रहते उसकी बेटी से फिर वारदात की संभावनाएं प्रबल हैं। बीईओ की शह पाकर मुन्ना राम अराजक हो गया था और वारदात को अंजाम दिया। वहीं दूसरी ओर बीईओ मरदह को घटना का जिम्मेदार बताते हुए जहूराबाद विधायक एवं सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल को पत्र भेज कर बर्खास्त करने की मांग कर चुके है।