मिड-डे-मील का नाम अब होगा पीएम पोषण मिशन योजना, बच्चों को अधिक गुणवत्तापूर्ण मिलेगा भोजन

चंदौली जिले में परिषदीय स्कूलों के बच्चों को दोपहर का भोजन देने के लिए संचालित मिड-डे-मील योजना का नाम बदलने की तैयारी चल रही है। शासन से प्रस्तावित योजना के अनुसार मिड-डे-मील अब प्रधानमंत्री पोषण मिशन शक्ति योजना के रूप में जाना जाएगा। हालांकि बीएसए कार्यालय को इस संबंध में अभी तक कोई लिखित आदेश नहीं मिला है लेकिन जल्द ही सरकार की ओर से आदेश आने की संभावना है।



परिषदीय स्कूलों में बच्चों को भोजन देने के लिए चल रही मध्याह्न भोजन योजना (मिड-डे-मील) का नाम बदलकर प्रधानमंत्री पोषण मिशन शक्ति योजना के रूप में करने की कवायद को शीघ्र अमलीजामा पहनाया जा सकता है। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 30 सितंबर को सरकारी और सहायता प्राप्त स्कूलों के बच्चों को पका भोजन उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री पोषण योजना लांच की है।


इस योजना को मौजूद मिड-डे मील के बदले लाया गया है। इस योजना में सरकारी और सहायता प्राप्त स्कूलों के पहली से आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले सभी स्कूली बच्चों को शामिल किया जाएगा। इसके बाद से ही शिक्षा विभाग इसे लेकर अमलीजामा पहनाने में जुट गया है। इसके साथ ही विभाग की ओर से सप्ताहवार दिए जाने वाले भोजन के मेन्यू व मानक को लेकर भी एडवाइजरी जारी की गई है।

बच्चों को अधिक गुणवत्तापूर्ण मिलेगा भोजन
योजना में हिदायत दी गई है कि मेन्यू व मानक के अनुरूप ही बच्चों को गुणवत्तापूर्ण पौष्टिक भोजन दिया जाए। इसमें किसी तरह की लापरवाही न की जाए। वहीं नाम बदलने के प्रस्ताव के साथ योजना में कई अन्य बदलाव होने के संकेत भी मिले हैं। माना जा रहा है कि अब बच्चों को और गुणवत्तापूर्ण भोजन देने की व्यवस्था होगी।

बीएसए सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि मिड-डे-मील का नाम बदलने को लेकर अभी शासन की ओर से कोई लिखित निर्देश प्राप्त नहीं हुआ है। निर्देश मिलने के बाद योजना को क्रियान्वित कर दिया जाएगा।