शिक्षकों, शिक्षामित्रों व अनुदेशकों के कार्यों का होगा मूल्यांकन


सोनभद्र। जिले में तैनात शिक्षकों शिक्षामित्रों व अनुदेशकों के कार्यों का मूल्यांकन होगा। इसके लिए शिक्षकों को प्रशिक्षण कोर्स करना होगा। निष्ठा- 3 कार्यक्रम को दीक्षा पोर्टल के माध्यम से संचालित किया जाएगा। इस कोर्स में पंजीकरण करने के बाद एक निश्चित समय में कोर्स पूरा करना होगा। 70 फीसदी न अंक प्राप्त करने पर ही प्रमाणपत्र जारी किया जाएगा। बीएसए हरिवंश कुमार का कहना है कि जल्द ही मूल्याकंन का कार्यक्रम शुरू होगा।

निष्ठा-3 कार्यक्रम राष्ट्रीय शिक्षा नीति की सिफारिशों पर आधारित है। इसे दीक्षा पोर्टल के माध्यम से संचालित किया जाएगा। पंजीकरण करने के बाद एक निश्चित समय में कोर्स पूरा करना होगा। एक कोर्स को पूरा करने में तीन से चार घंटे का समय देना होगा। हर कोर्स को पूरा करने के बाद प्रशिक्षार्थी को ऑनलाइन मूल्यांकन टेस्ट देना होगा। 70 फीसदी अंक प्राप्त करने पर ही प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा।

प्रशिक्षण कोर्स शिक्षकों के अलावा शिक्षामित्र व अनुदेशकों को करना अनिवार्य है। अक्तूबर से मार्च 2022 तक सभी शिक्षकों को 12 मॉड्यूल में प्रशिक्षण प्राप्त करना होगा। हर महीने में दीक्षा पोर्टल पर दो कोर्स अपलोड किए जाएंगे। हर महीने दो कोर्स करने होंगे। डायट फैकल्टी, एआरपी केआरपी एसआरपी, प्रधानाध्यापक, सहायक अध्यापक शिक्षा मित्र व अंशकालिक अनुदेशकों को यह प्रशिक्षण प्राप्त करना अनिवार्य है। शासन न बेसिक शिक्षा अधिकारी ने सभी कोर्स की प्रगति की मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया है। बीएस ने  बताया कि जिले में प्रशिक्षण की तिथि तय की जा रही है।

शिक्षकों, शिक्षामित्रों और अनुदेशकों के कार्यों का मूल्यांकन होगा। निष्ठा-3 कार्यक्रम को दीक्षा पोर्टल के माध्यम से संचालित किया जाएगा 70 फीसदी अंक प्राप्त करने पर ही प्रमाणपत्र जारी किया जाएगा। -हरिवंश कुमार, बीएसए