बेटी के लिए प्रश्नपत्र लीक कराने में प्रधानाचार्य व शिक्षक गिरफ्तार, परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव ने पेपर आउट से किया इन्कार

 प्रयागराज : सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में बेटी को पास कराने के लिए पर्चा लीक कराने के आरोपित एक प्रधानाचार्य तथा शिक्षक को रविवार सुबह यहां गिरफ्तार कर लिया गया। स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने स्कूल पहुंच कर डा. केएन काटजू इंटर कालेज कीडगंज के प्रधानाचार्य रामनयन द्विवेदी तथा सहायक अध्यापक अशोक तिवारी की गिरफ्तारी की। शिक्षक के मोबाइल की गैलरी से पेपर भी बरामद हुआ।


चार आरोपितों की तलाश जारी है। इधर परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव संजय कुमार उपाध्याय ने कहा है कि कहीं भी पर्चा आउट नहीं हुआ है। जहां नकल कराने कराने की कोशिश हुई, वहां पुलिस ने कार्रवाई की। वित्तीय सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूलों में प्रधानाचार्य व सहायक अध्यापक भर्ती के लिए रविवार को लिखित परीक्षा थी। इस परीक्षा में भी साल्वर गैंग के सक्रिय होने की सूचना पर एसटीएफ सतर्क थी। सीओ एसटीएफ नवेंदु कुमार को सूचना मिली कि केएन काटजू इंटर कालेज के प्रधानाचार्य परीक्षा शुरू होने से पहले शिक्षक के जरिए पेपर लीक कराने जा रहे हैं। इस पर इंस्पेक्टर अतुल कुमार सिंह, दारोगा धर्मेंद्र, रणेंद्र की टीम भेजी गई। यह टीम स्टेटिक मजिस्ट्रेट, सेंटर आब्जर्वर के साथ पहुंची और प्रधानाचार्य व शिक्षक से पूछताछ की। सहायक अध्यापक का मोबाइल चेक किया गया। वाट्सएप के जरिए भेजा गया पेपर डिलीट मिला लेकिन मोबाइल गैलरी में पर्चे की खींची गई फोटो मिल गई। कड़ाई से पूछताछ में प्रिंसिपल ने बताया कि उसकी बेटी आकांक्षा द्विवेदी भारत स्काउट एंड गाइड इंटर कालेज केंद्र में परीक्षा दे रही है। पर्चा लीक कर उसे साल्वर के जरिए नकल कराने के लिए योजना थी। उनके कहने पर ही शिक्षक ने कीडगंज निवासी वाइस प्रिंसिपल आकाश खरे व उसके बेटे अनुग्रह को वाट्सएप पर पर्चा भेजा था। एसटीएफ के अनुसार आकाश खरे, प्रधानाचार्य का बेटा अनुग्रह उर्फ छोटू, बेटी आकांक्षा व साल्वर वीरेंद्र कुमार फरार हैं। रामनयन प्रतापगढ़ के कोलापुर नंदपट्टी गांव रानीगंज और अशोक औराई पिपरगांव भदोही के निवासी हैं। दोनों यहां धूमनगंज स्थित मधुबन विहार कालोनी में रहते हैं।