परिषदीय विद्यालय में बच्चों को पीटने पर ग्रामीणों ने शिक्षक को धुना


बिल्हौर कोतवाली क्षेत्र के मल्लापुर गांव स्थित उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक ने कूड़ा इधर-उधर फेंकने पर बच्चों को डंडे से बुरी तरह पीट दिया दहशत में आए कुछ बच्चे चहारदीवारी फांदकर घर पहुंचे और परिजनों को सूचना दी। इस पर ग्रामीणों ने शिक्षक को कमरे में बंधक बनाकर धुन दिया। सूचना पर पहुंचे बोईओ और पुलिस ने शिक्षक को सुरक्षा में गांव से निकाला।

क्षेत्र के मल्लापुर उच्च प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक रामानंद त्रिपाठी, सहायक शिक्षक के पद पर देवेंद्र कुमार शर्मा और प्रीती की तैनाती है। सोमवार सुबह स्कूल में प्रार्थना के बाद कुछ बच्चों ने शोर मचाते हुए कापी के पन्ने और खाने-पीने के रैपर इधर उधर फेंकना शुरू कर दिया। इस पर रामानंद त्रिपाठी ने एक हरी छड़ी तोड़कर कक्षा 6, 7, 8 के बच्चों को पीटना शुरू कर दिया। इससे बच्चे दहशत में आ गए। कुछ बच्चे स्कूल की चहारदीवारी फांदकर घर पहुंचे और मां-पिता को जानकारी दी। बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने स्कूल का घेराव कर रामानंद को कमरे में बंद कर पीट दिया। सूचना पर पहुंचे ग्राम प्रधान सौरभ कटियार ने पुलिस, खंड शिक्षाधिकारी बिल्हौर को सूचना दी। करीब एक घंटे के हंगामे के बाद मौके पर पहुंचे खंड शिक्षाधिकारी रवि प्रकाश और पुलिस ने ग्रामीणों को शांत किया। बीईओ ने बच्चों से पिटाई के बारे में जानकारी ली। 

रविप्रकाश ने बताया कि प्रथम दृष्टया मामला पिटाई का है। इसकी रिपोर्ट बेसिक शिक्षाधिकारी को भेजी जाएगी। शिक्षक रामानंद को बीईओ कार्यालय में ही रखा जाएगा। जाते समय ग्रामीणों ने फिर से शिक्षक को घेरने का प्रयास किया तो पुलिस ने अपनी गाड़ी से बिल्हौर पहुंचाया।

ग्राम प्रधान सौरभ कटियार ने बताया कि उक्त शिक्षक इससे पहले भी एक बालक और उसके पिता संग मारपीट कर चुका है। वहीं, आरोपी शिक्षक ने बताया कि वह ब्लड प्रेशर के मरीज हैं, जिसकी दवा भी चल रही है। गांव के कुछ लोग व शिक्षक उनकी जाति के कारण खुन्नस रखते हैं और उन्हें उकसाते हैं। बच्चों को अनुशासन में रखना चाहता हूं, लेकिन कुछ लोग बच्चों और ग्रामीणों को भड़का देते हैं।