बीईओ के हस्ताक्षर से जारी पत्र इंटरनेट मीडिया में वायरल, यूटा ने आदेश को बताया असंवैधानिक, बीएसए ने कहा रिकार्ड ही नहीं

आगरा : भ्रष्टाचार के आरोप में फंसे खंड शिक्षाधिकारी (बीईओ) शमसाबाद ब्रजराज सिंह का मामला फिलहाल शांत होता नहीं दिख रहा। शुक्रवार को उनके हस्ताक्षर से जारी एक पत्र इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ, जिसमें नेताजी सुभाष जूनियर हाईस्कूल में तैनात शिक्षक राजेंद्र सिंह को आरोपों में दोषी पाते हुए उन्होंने अनुमोदन निरस्तीकरण आदेश किया है। हालांकि जिला बेसिक शिक्षाधिकारी (बीएसए) सतीश कुमार ने ऐसे किसी भी पत्र के संज्ञान में होने से मना किया है।

पत्र तेजी से चर्चा में आया, क्योंकि अनुमोदन निरस्तीकरण आदेश जिस शिक्षक का था वह यूनाइटेड टीचर्स एसोसिएशन (यूटा)के प्रदेश अध्यक्ष हैं। पत्र 17 सितंबर 2021 को पत्रंक संख्या 11644-50 से जारी हुआ। इसमें मधुनगर स्थित नेताजी सुभाष जूनियर हाईस्कूल के सहायक अध्यापक राजेंद्र सिंह पर विद्यालय प्रधानाध्यापक द्वारा की गई शिकायत, ब्लाक संसाधन केंद्र बरौली अहीर में तैनात सह ब्लाक समन्वयक बनवारी पर अनुचित कार्य का दबाव बनाने के उद्देश्य से मारपीट कर घायल करने, गिरोह बनाकर षड्यंत्र और धोखाधड़ी करने, एक सहायता प्राप्त विद्यालय के तीन शिक्षकों का रुका वेतन जारी करने के लिए दबाव बनाने, तत्कालीन बीएसए आगरा कोमल यादव पर दबाव बनाकर जूतों से पीटने और यूटा नाम से शिक्षकों, कर्मचारियों व अधिकारियों को विजिलेंस से पकड़वाने का भय दिखाकर शिक्षा का माहौल खराब करने आदि के आरोप में दोषी पाते हुए उनका अनुमोदन तत्काल प्रभाव से निरस्त किया था। साथ ही विद्यालय प्रबंधक को शिक्षक की नियुक्ति निरस्त कर संबंधित थाने में मुकदमा दर्ज करने के निर्देश भी दिए थे।


अवैधानिक है पत्र: नेताजी सुभाष जूनियर हाईस्कूल के सहायक अध्यापक और यूटा प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र सिंह राठौर का कहना है कि मेरी नियुक्ति अनुमोदन निरस्त करने संबंधी पत्र रिश्वतखोर बीईओ ब्रजराज सिंह ने डेढ़ महीने पहले जारी किया था, जो अब वायरल हुआ है। वह उस समय प्रभारी बीएसए थे, उन्हें इस तरह अनुमोदन निरस्त करने का अधिकार नहीं था। फिर भी अपने पद का दुरुपयोग करके उन्होंने पत्र जारी किया।

पत्र का नहीं कोई रिकार्ड: बीएसए सतीश कुमार का कहना है कि प्रभारी बीएसए द्वारा शिक्षक का अनुमोदन निरस्त करने संबंधी पत्र जारी करने की शिकायत यूटा ने की थी। बीईओ ब्रजराज सिंह को मामले में नोटिस जारी कर जानकारी मांगी गई थी, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। न ही कार्यालय के डिस्पैच रजिस्टर में ऐसे किसी पत्र की कोई एंट्री हैं।

होटल के कमरे से फाइल ले जाने की उड़ी सूचना: बीईओ ब्रजराज सिंह भगवान टाकीज स्थित जिस होटल में रहते थे, विजिलेंस ने उन्हें उसी के पास से गिरफ्तार किया। शुक्रवार को सूचना उड़ी कि उनके स्वजन उक्त होटल पहुंचें और उनके कमरे में रखी विभागीय फाइलों को ई-रिक्शा में रखवाकर साथ ले गए। हालांकि बीएसए ने विभाग की ऐसी कोई फाइल गायब होने से इन्कार किया है।