शिक्षक भर्ती में बेटी को पास कराने के लिए पर्चा लीक करने के आरोप में प्रधानाचार्य व शिक्षक को भेजा जेल


सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में बेटी को पास कराने के लिए पर्चा लीक करने के आरोप में गिरफ्तार डा. केएन काटजू इंटर कालेज के प्रधानाचार्य रामनयन द्विवेदी व सहायक अध्यापक अशोक तिवारी को सोमवार शाम जेल भेज दिया गया। जबकि फरार चल रहे प्रधानाचार्य की बेटी आकांक्षा, बेटे अनुग्रह, उपप्रधानाचार्य आकाश खरे व

साल्वर वीरेंद्र कुमार की तलाश में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) संदिग्ध ठिकानों पर छापेमारी करती रही। मगर किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी। इंस्पेक्टर कीडगंज रमेश चौबे ने बताया कि सोमवार शाम अभियुक्त रामनयन व अशोक तिवारी को कोर्ट में पेश किया गया। उसके बाद दोनों को न्यायिक अभिरक्षा में नैनी जेल भेजा गया उधर, एसटीएफ की टीम प्रधानाचार्य के घर धूमनगंज, उपप्रधानाचार्य के कीडगंज स्थित निवास समेत कई जगह छापेमारी की। दबिश के दौरान उनके घरों पर केवल महिलाएं मिली, जिनसे पूछताछ की गई और फिर दोस्तों, परिचितों व कुछ रिश्तेदारों के घर पर तलाश हुई। एसटीएफ सीओ नवेंदु कुमार कहना है कि फरार आरोपितों ने अपना मोबाइल भी बंद कर लिया गया है। पूछताछ में कुछ सुराग मिले हैं और संभावित स्थानों पर दबिश दी जा रही है। जल्द ही सभी को पकड़ लिया जाएगा। आकांक्षा की गिरफ्तारी होने पर यह पता चलेगा कि उसने परीक्षा में नकल किया था या नहीं। आकाश के पकड़े जाने पर के साल्वर के बारे में जानकारी मिल पाएगी। रविवार को एसटीएफ ने कीडगंज स्थित डा. केएन काटजू इंटर कालेज से प्रधानाचार्य व सहायक अध्यापक को पकड़ा था। उनके पास से मिले मोबाइल पर पर्चे की खींची गई फोटो भी मिली थी। पूछताछ में प्रधानाचार्य ने बताया था कि भारत स्काउट एंड गाइड इंटर कालेज में परीक्षा दे रही बेटी आकांक्षा को पास कराने के लिए उसने पेपर लीक किया था।