जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रयागराज की हुई किरकिरी:- उठ रहे सवालिया निशान, ऐसा कैसे किए बीएसए साहब, आखिर ऐसी कौन सी मजबूरी थी ?


प्रयागराज । जनपद प्रयागराज के विकास खण्ड कौधियारा के कम्पोजिट विद्यालय अकोढ़ा के सहायक अध्यापक कमल कुमार सिंह को कतिपय आरोपों में जहां बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रयागराज के द्वारा दिनांक 22 अक्टूबर को निलंबित कर दिया गया था। वही बेसिक शिक्षा अधिकारी  प्रयागराज के ऊपर ऐसा कौन सा दबाव पड़ा कि अपने ही आदेश को उनके द्वारा 24 घंटे के अंदर ही निरस्त करना पड़ा और निलंबित किए गए सहायक अध्यापक कमल कुमार को पुनः बहाल करने का आदेश दिया गया। अगर देखा जाए तो जहां 22 अक्टूबर को निलंबन का आदेश बेसिक शिक्षा अधिकारी के द्वारा दिया गया, वही 23 अक्टूबर को अपने ही आदेश को खारिज करते हुए पुनः बहाली का आदेश भी बेसिक शिक्षा अधिकारी के द्वारा किया गया। इस घटना को लेकर के बेसिक शिक्षा विभाग में काफी चर्चाएं है। वही बीआरसी कौंधियारा के कुछ अध्यापकों के द्वारा दबी जुबान में यह भी कहा जा रहा है कि सहायक अध्यापक कमल कुमार का राजनीतिक पकड़ मजबूत होने के कारण बेसिक शिक्षा अधिकारी को अपने ही आदेश को निरस्त करना पड़ा।



जिससे बेसिक शिक्षा अधिकारी की किरकिरी होती साफ दिख रही है। वहीं कुछ अध्यापक तो खुलकर सामने न बोलते हुए नाम न उजागर करने की शर्त पर बताया कि बेसिक शिक्षा विभाग के अध्यापक जो चाहते है वही करते है। अधिकारियों की नहीं चलने पाती कौधियारा में तो बेसिक शिक्षकों का अपना ही बोलबाला है। परन्तु 24 घण्टे के भीतर ही आज दिनांक 23 अक्टूबर को भारी राजनैतिक दबाव के चलते बीएसए प्रयागराज महोदय को उक्त सहायक अध्यापक कमल कुमार सिंह के निलम्बन आदेश को स्थगित करना पड़ा । जिससे बीएसए महोदय को किरकिरी हो रही है।