आईये जानिए UP में शिक्षक/ प्रधानाध्यापक के कितने लाख पद हैं खाली, क्या टीईटी के बाद शिक्षक भर्ती का किया जा सकता है एलान


उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा से जुड़ी सभी तारीखों का आधिकारिक एलान पहले ही किया जा चुका था। विभाग द्वारा जारी की गई नोटिस के मुताबिक अभ्यर्थी यूपीटेट के लिए 07 अक्तूबर से 25 अक्तूबर, 2021 तक आवेदन कर सकेंगे।
उत्तर प्रदेश परीक्षा नियामक प्राधिकारी द्वारा हर साल राज्य में शिक्षक बनने का सपना रखने वाले उम्मीदवारों के लिए अनिवार्य शिक्षक पात्रता परीक्षा (UPTET Exam) का आयोजन किया जाता है। इस एग्जाम में प्रत्येक वर्ष लाखों की संख्या में अभ्यर्थी अपनी किस्मत आजमाते हैं। क्योंकि यह टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट ही प्रतियोगी अभ्यर्थियों के अध्यापक बनने का भविष्य तय करता है। बताते चलें कि इस वर्ष भी यूपीटीईटी की आवेदन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। इसलिए, यूपी के जूनियर व प्राइमरी स्कूलों में सरकारी शिक्षक बनने वाले युवाओं को साल 2021 में आयोजित की जाने वाली यूपीटीईटी की जल्द से जल्द आवेदन प्रक्रिया पूरी कर लेनी चाहिए। जिसके लिए 07 अक्तूबर से 25 अक्तूबर, 2021 तक लॉस्ट डेट निर्धारित है। आवेदन प्रक्रिया पूरी कराए जाने के बाद 28 नवंबर को इस पात्रता परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। 

कितने लाख सरकारी शिक्षकों के पद खाली होने का है अनुमान 
साल 2020 के अप्रैल माह में एक इंग्लिश मीडिया रिपोर्ट में छपी खबर में यह बताया गया है कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित कुल 1.59 लाख जूनियर व प्राइमरी विद्यालय शिक्षकों की भारी कमी से जूझ रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि पूरे यूपी में शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों के 1.41 लाख से भी अधिक पड़ खाली पड़ें हैं। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि कोविड महामारी के बाद स्थितियां सामान्य हो रही हैं। प्रतियोगी अभ्यर्थियों को उम्मीद है कि जल्द ही टीईटी संपन्न कराए जाने के बाद शिक्षक भर्ती का ऐलान किया जा सकता है। हालांकि अभी तक सरकार या विभाग द्वारा किसी भी तरह की कोई आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आई है।