शिक्षकों एवं शिक्षामित्रों का होगा बीआरसी पर चार दिवसीय प्रशिक्षण, शासन से बजट जारी, पढ़े अधिक सूचना

 

शिक्षकों एवं शिक्षामित्रों का होगा बीआरसी पर चार दिवसीय प्रशिक्षण, शासन से बजट जारी, पढ़े अधिक सूचना 
गोंडा। बुनियादी भाषा और गणित में कौशल विकास के लिए प्राइमरी शिक्षकों को चार दिनों तक प्रशिक्षण लेना होगा। इसके लिए शासन ने जिले को 64 लाख 99 हजार रुपये का बजट दिया है।

जिसमें ब्लाक स्तर पर मास्टर ट्रेनरों को प्रशिक्षित करने के साथ ही जिले 10165 शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगा।इसमें शिक्षामित्रों को भी शामिल किया गया है। चार दिनों तक जिले के 16 बीआरसी पर बेसिक शिक्षकों का प्रशिक्षण अब ऑफ-लाइन होगा। उन्हें बुनियादी भाषा और गणित में दक्ष बनाया जाएगा। सभी शिक्षकों को प्रशिक्षण लेना अनिवार्य होगा और प्रशिक्षण की आन-लाइन मानीटरिंग भी होगी।



बुनियादी भाषा और गणित में कौशल विकास के लिए प्राइमरी शिक्षकों को ऑफ-लाइन प्रशिक्षण दिया जाएगा। शिक्षकों के प्रशिक्षण लम्बे समय से ऑन-लाइन चल रहे हैं, लेकिन ये प्रशिक्षण ऑफलाइन दिया जाएगा। प्रशिक्षण 31 जनवरी तक चलेंगे। फाउंडेशनल लिट्रेसी एवं न्यूमरेसी पर आधारित शिक्षक प्रशिक्षण के लिए महानिदेशक स्कूल शिक्षा अनामिका सिंह ने आदेश जारी कर दिया है।

स्कूल के शिक्षकों का चार दिवसीय प्रशिक्षण बीआरसी पर खंड शिक्षा अधिकारी के नेतृत्व में संचालित किया जाएगा। प्रशिक्षण कराए जाने की तैयारी मंगलवार से शुरू हो गई है। जिले से सन्दर्भदाताओं का प्रशिक्षण सीमैट, प्रयागराज में होगा। 10 दिसंबर तक इनका प्रशिक्षण पूरा हो जाएगा।

इसमें चार संदर्भदाताओं को प्रयागराज भेजा जाएगा। जो जिले में आकर ब्लाक स्तीय उन संदर्भदाताओं को प्रशिक्षित करेंगे जो ब्लाकों पर होने वाले प्रशिक्षण में शिक्षकों प्रशिक्षित करेंगे। माना जा रहा है कि यह प्रशिक्षण शिक्षकों में शैक्षिक सुधार के लिए है। जिससे वह स्कूलों में बच्चों को उसी तरीके से पढ़ाएंगे।

शिक्षकों को प्रशिक्षण देने के लिए पहले ब्लॉक स्तरीय संदर्भदाताओं के प्रशिक्षण का आयोजन होगा। यह प्रशिक्षण 6 से 19 दिसम्बर के बीच डायट पर होगा। इसके बाद यही संदर्भदाता ब्लाक स्तर पर होने वाले प्रशिक्षण में शिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे।

ब्लाक स्तर पर शिक्षकों का चार दिवसीय प्रशिक्षण होगा। जिले पर बीआरसी पर 13 दिसंबर 2021 से 31 जनवरी के बीच प्रशिक्षण कराए जाएंगे। इसमें 40- 40 के बैच का प्रशिक्षण होगा। एक बीआरसी पर दो से तीन कमरों में ही प्रशिक्षण हो पाएगा। इस तरह चार दिनों में 1600 से 2000 शिक्षकों का प्रशिक्षण पूरा हो सकेगा। पांच चरणों में 10165 शिक्षकों व शिक्षामित्रों को प्रशिक्षित किया जाएगा।

कोरोना संकट के बाद स्कूलों में पढ़ाई सितंबर माह में आगे बढ़ी तो प्रशिक्षणों का दौर भी शुरू हो गया। आनलाइन के साथ ही रेडीनेस व उपचारात्मक प्रशिक्षणों का आयोजन हुआ। इसके बाद खेल प्रतियोगिताओं का दौर और अब एक साथ ही सभी शिक्षकों के प्रशिक्षण की शुरूआत एक बार फिर से शुरू हो गई है।

इससे पढ़ाई का माहौल स्कूलों में प्रभावित हो रहा है। शिक्षक संघ के नेता विनय तिवारी का कहना है कि प्रशिक्षणों से पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इस समय स्कूलों में पढ़ाई का दौर चल रहा है, शिक्षक मेहनत कर रहे हैं। उन्हें इधर उधर कार्योँ में फंसा कर पढ़ाई को प्रभावित किया जा रहा है। उनका कहना है कि अभी पढ़ाई पर ध्यान देने की जरूरत थी।

👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇