आयोग का एक और पीएनपी के दो अफसर जा चुके हैं जेल:- पिछले दस वर्षों में टीईटी के अलावा एलटी ग्रेड भर्ती परीक्षा पर भी उठे हैं सवाल


प्रयागराज :-शिक्षा विभाग में नौकरी के लिए अनियमितताओं के मामले कई बार सामने आ चुके हैं। पिछले दस वर्षों के दौरान तीन अफसरों को जेल जाना पड़ा और एक अन्य अफसर को निलंबित किया गया। दो बार तो शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) के मामले में अफसरों पर गाज गिरी। वहीं, एक बार एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती में पेपर आउट होने के मामले में और एक बार प्राथमिक शिक्षक भर्ती में अनियमितता के मामले में दो अन्य अफसरों पर कार्रवाई की गई।




टीईटी 2011 का पहली बार आयोजन किया गया था। पैसे लेकर पास कराने व तमाम अनियमितताओं के आरोप में माध्यमिक शिक्षा के तत्कालीन निदेशक के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। बाद में उन्हें जेल भी जाना पड़ा था।

वहीं, एलटी ग्रेड शिक्षक के 10768 पदों पर भर्ती के लिए 29 जुलाई 2018 को आयोजित परीक्षा में सामाजिक विज्ञान और हिंदी का पेपर लीक होने के मामले में उप्र लोक सेवा आयोग की तत्कालीन परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार भी जेल जा चुकी हैं। अब परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के सचिव संजय उपाध्याय को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है।

👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇