68500 शिक्षक भर्ती में व्यापक हेरफेर पर निलंबित की गईं थीं सुत्ता सिंह

प्रयागराज : योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश परीक्षा नियामक प्राधिकारी (पीएनपी) के स्तर पर गड़बड़ी होने के मामले में दूसरी बार सचिव पर बड़ी कार्रवाई की है। इसके पहले वर्ष 2018 में 68500 शिक्षक भर्ती में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी के आरोप में कार्रवाई की थी, जिसमें तत्कालीन सचिव सुत्ता सिंह सहित कई अफसरों को निलंबित किया गया था। अब


यूपीटीईटी में गोपनीयता के उच्चस्तरीय मानदंडों का पालन नहीं करने के आरोप में परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव संजय कुमार उपाध्याय को निलंबित किया गया है। 68500 शिक्षक भर्ती मामले में कापियां बदलने से लेकर अभ्यर्थियों को परीक्षा में मिले नंबरों तक में व्यापक स्तर पर हेरफेर किया गया था। तब सुत्ता सिंह सचिव थीं। उस समय उत्तर पुस्तिका पर परीक्षा हुई थी। कई अभ्यर्थी जानबूझकर फेल किए जाने की शिकायत लेकर हाई कोर्ट चले गए। उस समय योगी सरकार ने भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी को गंभीरता से लेते हुए तत्कालीन सचिव, परीक्षा नियंत्रक जीतेंद्र सिंह ऐरी सहित कुछ और अफसरों पर निलंबन की कार्रवाई की थी।

👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇