22 May 2020

69000 : जनरल के विरुद्ध ओबीसी एससी के आरोप निराधार . .By AG


69000 : जनरल के विरुद्ध ओबीसी एससी के आरोप निराधार
.
.
1) जनरल वर्ग के द्वारा उनके हित हेतु दो मुद्दे हैं।
● ओवरलैपिंग
● EWS
(तीसरा सबसे मुख्य मुद्दा 90/97 लगभग विजय की ओर है)
.
.
2) ओवरलैपिंग में भी प्रेसिसली कहें तो रिलैक्स्ड स्टैंडर्ड्स पर ओवरलैपिंग। अर्थात ऐसे ओबीसी एससी जो शिथिल चयन मानकों के साथ मेरिट में UR/GEN सीट पर फाइट करेंगे।
.
.
3) इसमें उन ओबीसी एससी का कुछ नहीं बिगड़ना है जो जनरल हेतु निर्धारित चयन मानकों के साथ सेलेक्ट हो रहे हैं। अर्थात 90 टेट और 97 STET/ATRE।
.
.
4) अब इसमें ओबीसी एससी भाई बन्धु कह रहे हैं कि जनरल 50% आरक्षण लेना चाहते हैं। तो ऐसे लोगो को पॉइंट नम्बर 3 दोबारा पढ़ना चाहिए।
.
.
5) वैसे भी ओवरलैपिंग मुद्दे का हल कोर्ट से निकल ही नहीं सकता। कोर्ट में जा रहे जनरल वर्ग की हार होनी निश्चित है जिसे हमने उनके ग्रुप में बताया भी था पर उसी ग्रुप से हमें निकाल दिया गया। अंतिम कोर्ट का निर्णय यही रहेगा।
.
.
6) इसलिए ओबीसी एससी को ऐसे नादान कुछ जनरल के कारण व्यथित नहीं होना चाहिए। कुछ ओबीसी एससी नेता तो जैसे जनरल से बदला लेना चाहते हैं ऐसी पोस्ट लिख रहे हैं।
.
.
7) रिलैक्स्ड स्टैंडर्ड पर ओवरलैपिंग मात्र प्रोटेस्ट से दूर हो सकती है कोर्ट से नहीं। इसलिए जनरल वर्ग को प्रोटेस्ट करना चाहिए और इससे ओबीसी एससी को समस्या भी नहीं होनी चाहिए क्योंकि प्रोटेस्ट करना संवैधानिक अधिकार है। आप प्रोटेस्ट का विरोध करेंगे मतलब संविधान का विरोध करेंगे।
.
.
8) प्रोटेस्ट करने से भले ही आप जो चाह रहे हैं वो न मिले लेकिन यदि बंगाल नेटिव इन्फैंट्री के मंगल पांडे सोचते, ऐसा ही 10 मई 1857 को मेरठ गैरिसन के हिंदुस्तानी सैनिक सोचते तो 1947 में देश आजाद न हुआ होता।
.
.
9) अब बात कर लेते हैं EWS की तो EWS वैसे तो 50% UR सीट्स ब्रिचिंग के कारण अभी सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। पर जब तक कोर्ट से EWS अवैध नहीं होता तब तक वैध है।
.
.
10) EWS को लेकर कोर्ट और प्रोटेस्ट दोनों जगह से सम्भावनाये हैं अतः EWS के लिए दोनों रास्ते सही हैं। कोर्ट के लिए रवि पांडे 9005686490 और शिवम पांडे 7905856266 से EWS वाले सम्पर्क कर सकते हैं।
.
.
11) EWS चूंकि UR में दिया जा रहा है न कि पहले से ही रिजर्व्ड सीट्स में तो इससे भी ओबीसी एससी को परेशानी नहीं होनी चाहिए। जनरल के प्रति कुछ ओबीसी एससी घृणित सोच के साथ बदला लेने वाली संकीर्ण मानसिकता रखते हैं। ऐसे लोगो के बहकावे में बड़ी सोच वाले ओबीसी एससी न आएं अपना धन समय और ऊर्जा कहीं और लगाएं। धन्यवाद
.
.
12) अनारक्षित वर्ग अर्थात जनरल भी अपनी ऊर्जा सही दिशा में लगाएं। जनरल वर्ग प्रदेश की 70% विधान सभा सीटों पर निर्णायक भूमिका अदा करता है। यदि नोटा पर चला गया तो बीजेपी सरकार नहीं बनेगी। नोटा इसलिए कहा कि दूसरी जातिवादी पार्टियों से अच्छी बीजेपी है। सर्वोत्तम तो नहीं कह सकते परंतु अभी उपलब्ध विकल्पो में सर्वोत्तम है। इसलिए बीजेपी नेताओं को घेरना शुरू कीजिए।

~AG

Guruji Portal: 👇प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु नोट्स👇