कोरोना बचाव के टीकाकरण से छूटे छात्र तो प्रधानाचार्यों पर होगी कार्रवाई


वाराणसी: कोरोना संक्रमण की वजह से विश्वविद्यालय और जिले के इंटर तक के विद्यालय 16 जनवरी तक बंद हैं, लेकिन 14 से 16 जनवरी तक चलने वाले मेगा टीकाकरण अभियान के लिए सभी छात्राें को विद्यालय आना पड़ेगा। इसमें जिन छात्रों ने टीकाकरण करा लिया है, उन्हें प्रमाणपत्र प्रधानाचार्य के पास जमा करना होगा। इसके बाद वह घर चले जाएंगे, जबकि बाकी बच्चों को उनके विद्यालय और आसपास के केंद्र पर टीका लगाया जाएगा। इसमें लापरवाही पर प्रधानाचार्यों पर ही कार्रवाई की जाएगी।


अभियान में इंटर तक के सभी विद्यालयों के साथ ही विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों, संस्कृत विद्यालय, कोचिंग संस्थाएं, मदरसा, आईटीआई, पॉलिटेक्निक सहित अन्य शिक्षण संस्थानों को शामिल किया गया है। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि विद्यालयों में एक जनवरी 2004 और एक जनवरी 2007 के बीच जन्म किशोरों अनिवार्य रूप से आएंगे। उनके टीकाकरण की जिम्मेदारी विद्यालय प्रबंधन की होगी। कहा कि इसमें लापरवाही पर शिथिलता पाये जाने पर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की सुसंगत धाराओं के तहत कार्यवाही की जाएगी। जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. विनोद कुमार राय ने सभी प्रधानाचार्यों को पत्र भेजकर जिला प्रशासन के आदेश के अनुपालन में विद्यालय के नजदीक के पीएचसी, सीएचसी से संपर्क कर टीकाकरण करवाने को निर्देशित किया है।

👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇