बेसिक शिक्षा के एफएलएन प्रशिक्षण में निभाई जा रही रस्म अदायगी


 बेसिक शिक्षा के एफएलएन प्रशिक्षण में निभाई जा रही रस्म अदायगी 

मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता (एफएलएन) प्रशिक्षण में महज औपचारिकता निभाई जा रही है। इसका ताजा उदाहरण विकासखंड जखौरा का एफएलएन प्रशिक्षण है। बुधवार को नगर संसाधन क्षेत्र में आयोजित प्रशिक्षण लेटलतीफ तरीके से संचालित हुआ। इससे विभागीय कर्मियों की लापरवाही उजागर हो गई।







एफएलएन प्रशिक्षण का प्रशिक्षण विकासखंड स्तर पर संचालित किया जा रहा है। विकासखंड जखौरा में कार्यरत शिक्षक, शिक्षिकाओं के पचास-पचास शिक्षकों के बैच बनाकर प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। इसका सातवां चरण चल रहा है। प्रशिक्षण के दूसरे दिन ऐसा हुआ, जिसके बारे में किसी ने सोचा नहीं था। जो प्रशिक्षण सुबह दस बजे प्रारंभ हो जाना चाहिए, वह करीब आधा घंटा लेट शुरू हुआ। हालाकि, प्रशिक्षण स्थल पर शिक्षक और संदर्भदाता समय से पहुंच गए थे लेकिन जहां प्रशिक्षण दिया जाना था, वहां ताला लटका था, इससे प्रशिक्षण में बाधा उत्पन्न हुई। इस मामले में खंड शिक्षा अधिकारी जानकर भी अंजान बने हुए हैं। इससे लापरवाहों के हौसले बुलंद बने हुए हैं। इससे स्पष्ट है कि प्रशिक्षण के नाम पर केवल औपचारिकता निभाई जा रही है। 




दो बीईओ के मध्य फंसा पेंच 

विकासखंड जखौरा के शिक्षकों का प्रशिक्षण बीआरसी जखौरा के साथ नगर संसाधन केंद्र में भी संचालित किया जा रहा है। बुधवार को जो लापरवाही सामने आई, जिसमें नगर संसाधन केंद्र से जुड़े कर्मियों की लापरवाही उजागर हो रही है। इसमें न तो खंड शिक्षा अधिकारी नगर और न ही खंड शिक्षा अधिकारी जखौरा गंभीर नजर आ रहे हैं।