31 अक्तूबर तक दाखिला सीट छोड़ने वाले छात्रों की पूरी फीस वापस करें: यूजीसी


नई दिल्ली। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने देश के सभी विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों को निर्देश दिया है कि यदि कोई छात्र 31 अक्तूबर है। पहले प्रवेश रद्द करना चाहता है तो उसे पूरी फीस वापस करनी होगी। वहीं, 31 दिसंबर तक एक हजार रुपये रद्द शुल्क काटकर फीस वापस की जाए।

यूजीसी ने कहा कि जेईई मेन, जेईई एडवांस, सीयूईटी यूजी की परीक्षा से लेकर परिणाम में देरी के चलते विश्वविद्यालयों में अक्तूबर 2022 तक स्नातक प्रोग्राम के पहले वर्ष में दाखिले होंगे। अभिभावकों को होने वाली वित्तीय कठिनाइयों से बचाने के लिए यह फैसला लिया गया है। इस मामले में यूजीसी के सचिव प्रो. रजनीश जैन ने विश्वविद्यालयों और राज्यों को पत्र लिखा है.



आयोग ने इससे पहले विश्वविद्यालयों को पत्र लिखा था कि सीबीएसई बोर्ड का 12वीं कक्षा का रिजल्ट जारी होने तक वे आवेदन विंडो खोले रखें। हालांकि जेईई मेन, जेईई एडवांस और सीयूईटी यूजी समेत अन्य प्रवेश परीक्षाओं के रिजल्ट आना अभी बाकी हैं। इस वजह से विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों में शैक्षणिक सत्र 2022 23 के तहत स्नातक प्रोग्राम के पहले वर्ष के छात्रों का नया सत्र शुरू होने में समय लगेगा।

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇