पांचवीं तक इंग्लिश, आगे हिंदी मीडियम में पढ़ेंगे सरकारी स्कूलों के बच्चे

बकेवर सरकारी स्कूलों में इंग्लिश मीडियम से पांचवीं पास करने वाले बच्चे अब आगे की पढ़ाई हिंदी मीडियम में करेंगे। ऐसा इसलिए है क्यों कि बेसिक शिक्षा विभाग के उच्च प्राथमिक स्कूल इंग्लिश मीडियम नहीं है। ऐसे बच्चों के भविष्य को लेकर अभिभावक चिंतित है 




जिले में 947 प्राथमिक, 247 पूर्व माध्यमिक और 190 कंपोजिट विद्यालय हैं। इसमें 101 प्राथमिक और 10 कपोजिट विद्यालयों को इंग्लिश मीडियम का दर्ज देकर पढ़ाई कराई जा रही है। महेवा ब्लॉक में नौ प्राथमिक दो कंपोजिट स्कूल इंग्लिश मीडियम है इंग्लिश रही है। मीडियम स्कूलों से इस बार तीन हजार बच्चों ने पाचवीं पास की है। कक्षा छह से कोई भी सरकारी





स्कूल इंग्लिश मीडियम नहीं है। इससे अब इन बच्चों को हिंदी मीडियम में ही पढ़ाई करनी होगी। अभिभावक मनोज पोरवाल टिल्लू ने कहा कि आगे की शिक्षा जब हिंदी मीडियम में ही होनी है तो पांचवी तक स्कूलों को अंग्रेजी माध्यम क्यों किया गया शिक्षक नेता संजय त्रिपाठी ने कहा कि सरकार को पूर्व माध्यमिक विद्यालयों को भी अपग्रेड कर इंग्लिश मीडियम करना चाहिए। बीएसए उमानाथ ने कहा कि फिलहाल जो व्यवस्था है उसी के हिसाब से बच्चों की पढ़ाई की

कोशिश रहेगी कि इन बच्चों को आसपास के अंग्रेजी माध्यम स्कूलों से जोड़ा जाए।

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇