शिक्षा विभागः कार्यभार ग्रहण न करने वाले लिपिकों का वेतन रोका गया


शिक्षा विभाग में समूह 'ग' के पटल परिवर्तन को लेकर जिलों से रिपोर्ट न मिलने पर महानिदेशक विजय किरन आनंद ने कड़ा रुख अपनाया है। उन्होंने समूह 'ग' के ऐसे सभी कर्मचारियों का वेतन रोक दिया है, जिन्होंने कार्यभार ग्रहण नहीं किया है। अवरुद्ध किया गया वेतन तभी जारी किया जाएगा, जब महानिदेशक इसकी अनुमति देंगे। अभी तक स्थानांतरित हुए लगभग एक हजार लिपिकों में केवल 119 के कार्यभार ग्रहण करने की सूचना है।

सोमवार को उन्होंने आदेश जारी करते हुए कहा कि यदि स्थानांतरित कर्मचारी ने अपने तबादले का प्रत्यावेदन संबंधित कार्यालध्यक्ष को नहीं दिया है तो उनका वेतन रोक दिया जाए। कार्यभार ग्रहण न करना शासन के आदेशों की अवहेलना है। आदेश के मुताबिक यदि वेतन जारी हो जाता है तो संबंधित कार्यालयध्यक्ष या आहरण वितरण अधिकारी के खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी ।


शिक्षा विभाग में एक हजार से ज्यादा लिपिकों का तबादला किया गया था, जिसमें से 45 फीसदी ऐसे थे जो 10 वर्षों से एक ही कार्यालय में एक ही जगह पर थे। जून में किए गए तबादलों में तीन दिन के अंदर कार्यभार ग्रहण करना था। उन्होंने मंडलीय शिक्षा निदेशकों से तबादले के बाद प्रमाणपत्र भी मांगा था लेकिन अधिकारियों ने अभी तक प्रमाणपत्र नहीं दिया है.

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇