बेमानी साबित हो रहा स्कूल चलो अभियान:देवरिया में समय से स्कूल नहीं आते अध्यापक, प्रधानाध्यापक से लेकर शिक्षक तक मिले अनुपस्थित

प्रदेश में समाज के हर तबके के बच्चों को प्राथमिक शिक्षा दिलाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। सरकार जोर-शोर से स्कूल चलो अभियान चला रही है, ताकि कोई बच्चा शिक्षा पाने से वंचित न रहे। वहीं शिक्षकों की मनमानी से देवरिया में यह अभियान दम तोड़ रहा है। जिले के आखिरी पूर्वी छोर पर स्थित बनकटा ब्लॉक के गाढ़ा नंबर-1 और गाढ़ा नंबर-2 नाम से दोनों विद्यालय एक ही विद्यालय में संचालित होते हैं।


सुबह 8:30 बजे पहुंचने पर विद्यालय में बच्चों की संख्या कुल 6 थी। एक मात्र मौजूद शिक्षामित्र शिव प्रसाद बैठने के लिए कुर्सी झाड़ रहे थे। पूछने पर बताया, कोई शिक्षक नहीं आया है। सोमवार है, देर सबेर आ जाएंगे लोग।

प्रधानाध्यापिका भी थीं अनुपस्थित
यहां पर नियुक्त प्रधानाध्यापिका उषा सिन्हा अनुपस्थित मिलीं। सहायक शिक्षक शिव कुमार गुप्ता, सहायक शिक्षक छोटे लाल, सहायक शिक्षक राधेश्याम अनुपस्थित मिले। प्राथमिक विद्यालय बक्शी गांव में प्रधानाध्यापक सुरेश प्रसाद अनुपस्थित मिले। पूछने पर बताया कि फल लेने गए हैं। रसोइया भी नहीं मिला।

जानकारी यह मिली, प्रभारी प्रधानाध्यापक सुरेश प्रसाद देवरिया से बस से आते हैं। उनको रसोइया रिसीव करने गया है। अकेली महिला रसोइया मिड डे मील बनाने की तैयारी में लगी थी। बीएसए संतोष कुमार राय का फोन नहीं उठा। खंड शिक्षा अधिकारी बनकटा सोनू कुमार ने बताया कि ऐसे शिक्षकों को चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी।

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇