नहीं खरीदे जा सके ब्लूटूथ स्पीकर, विद्यालय प्रबंध समिति के खाते में भेजे गए थे दो-दो हजार रुपये

पडरौना। जिले के परिषदीय स्कूलों में ब्लूटूथ स्पीकर खरीदने में के लिए प्रधानाध्यापक तथा एसएमसी अध्यक्ष के संयुक्त खाते में धन भेजकर दो-दो स्पीकर खरीदने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन अब तक आधे से अधिक स्कूलों में ब्लूटूथ स्पीकर नहीं खरीदे जा सके हैं। इससे स्पीकर के जरिए छात्र-छात्राओं को पढ़ाने की सरकार की मंशा पूरी नहीं हो पा रही है।

जिले में 2,464 परिषदीय विद्यालय संचालित होते हैं। इसमें करीब तीन लाख बच्चे नामांकित हैं। परिषदीय स्कूलों में नामांकित छात्र-छात्राओं को मोबाइल फोन, कंप्यूटर या लैपटॉप से जोड़कर ब्लूटूथ स्पीकर के जरिए विभिन्न विषयों को पढ़ाने के लिए सरकार





की तरफ से जिले के सभी विद्यालयों के विद्यालय प्रबंध समिति के खाते में दो-दो हजार रुपये फरवरी माह में ही भेज कर शीघ्र खरीदारी करने के निर्देश दिए गए थे। इस धनराशि से विद्यालय में एक-एक हजार के दो ब्लूटूथ स्पीकर खरीदना था।

अप्रैल माह समाप्त होने को हैं, लेकिन अब तक जिले के महज तीस फीसदी स्कूलों में ही ब्लूटूथ स्पीकर की खरीदारी की जा सकी है। इससे ब्लूटूथ के जरिए परिषदीय विद्यालयों के छात्र छात्राओं को पढ़ाने की सरकार की मंशा परवान नहीं चढ़ पा रहा है। इस संबंध में प्रभारी बीएसए पंकज सिंह ने बताया कि विभाग से जारी निर्देश का अनुपालन समय से नहीं करना गंभीर बात है। फरवरी माह में ही ब्लूटूथ स्पीकर को खरीदारी के लिए सभी एसएमसी के खाते में दो-दो हजार रुपये भेज दी गई थी, लेकिन विधानसभा चुनाव होने के नाते खरीदारी करने में देरी हुई है। इसको लेकर विभाग पूरी तरह गंभीर है।

इस संबंध में शुक्रवार को जिले के सभी एसएमसी को पत्र जारी कर ब्लूटूथ स्पीकर की शीघ्र खरीदारी करने के निर्देश दिए गए हैं। इसकी खरीदारी करने के बाद क्षेत्र के बीईओ के माध्यम से बीएसए कार्यालय को अवगत कराना है। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही हुई तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇