आहरित धनराशि का बिल न देने पर प्रधानाध्यापिका निलंबित, यह था गोल-माल

जौनपुर। प्राथमिक विद्यालय पिपरी बक्सा में कार्यरत प्रधानाध्यापिका नीलम यादव द्वारा वित्तीय अनियमितता बरतने पर उन्हें निलंबित कर दिया गया है। अनियमितता की शिकायत मिलने पर बीएसए डा. गोरखनाथ पटेल ने जांच कराई तो मामला सही पाया गया। जिस पर शिक्षक के निलंबन की कार्यवाही की गई। 




जांच पाया गया कि प्रधानाध्यापिका ने अनधिकृत एवं अनियमित तरीके से 150000 कंपोजिट ग्रांट की धनराशि एवं 30000 की धनराशि एमडीएम खाते से आहरित किया है। खातों से आहरित किए गए धनराशि का प्रधानाध्यापिका के पास कोई भी बिल वाउचर नहीं मिला। जांच टीम के समक्ष को बिल प्रस्तुत नहीं प्रस्तुत नहीं कर सकीं। जिस पर प्रधानाध्यापक के निलंबन की कार्रवाई की गई। 



बीएसए ने बताया कि महानिदेशक स्कूल शिक्षा एवं राज्य परियोजना निदेशक के निर्देशन में विद्यालयों की निरीक्षण, मध्याह्न भोजन का संचालन, साफ-सफाई, पठन-पाठन तथा छात्र छात्राओं के लर्निगिं आउटकम्स में सुधार के लिए जनपद स्तर पर गठित टास्क फोर्स टीम द्वारा शनिवार को जिला समन्वयक एवं खंड शिक्षा अधिकारियों द्वारा विद्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण प्रेरणा एप के माध्यम से किया गया। निरीक्षण के समय विद्यालय में अनुपस्थित 35 प्रधानाध्यापक एवं प्रभारी प्रधानाध्यापक शिक्षामित्र अनुदेशकों पर कार्रवाई करते हुए निरीक्षण तिथि का वेतन रोका गया है।

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇