शिक्षिका की मौत, इलाज में लापरवाही का आरोप



झांसी। बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालय में तैनात एक शिक्षिका की सोमवार को मौत हो गई। परिजनों ने इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। मृतका के शव का डॉक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया परीक्षण के लिए विसरा व हृदय सुरक्षित रखा गया है।




घटना से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। कोतवाली थाना इलाके के नझाई बाजार निवासी गौरव अग्रवाल रानीपुर के बसारी गांव के बेसिक शिक्षा परिषद के कंपोजिट विद्यालय में शिक्षक के पद पर कार्यरत है। इसी विद्यालय में उनकी पत्नी पूजा अग्रवाल (34) भी सहायक अध्यापक के पद पर कार्यरत थी पूजा को पिछले तीन दिनों से बुखार आ रहा था। हालांकि, रविवार को उनकी हालत में सुधार आ गया था लेकिन सोमवार की सुबह एक बार फिर उनको बोयत बिगड़ गई।


परिजन आनन फानन अस्पताल लेकर भागे। यहां उन्हें लगभग दो घंटे रखा गया। इसके बाद परिजन उन्हें एक निजी अस्पताल ले गए। हालत गंभीर होने पर निजी अस्पताल से उन्हें मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया। यहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मृतका के भाई राठ निवासी राजीव अग्रवाल ने बताया कि उसकी बहन की शादी साढ़े पांच साल पहले हुई थी। तीन दिन से बुखार आ रहा था।



रविवार को उसकी सेहत ठीक हो गई भी शाम को उसकी बहन से फोन पर बात भी हुई थी। लेकिन, सोमवार की सुबह अचानक उसकी हालत बिगड़ गई, जिस पर जिला अस्पताल लाया गया। भाई ने बताया कि जिला अस्पताल में उसकी देखभाल नहीं की गई, जिससे जिला उसकी हालत बिगड़ गई मायके पक्ष के लोगों के पहुंचने के बाद मृतका के शव का पोस्टमार्टम डॉक्टरों के दो सदस्यीय पैनल ने किया। जांच के लिए विसराव हृदय को सुरक्षित रखा गया है। ब्यूरो

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇