पदोन्नति के लिए विचार किया जाना मौलिक अधिकार: सुप्रीमकोर्ट


नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि पदोन्नति के अधिकार को मौलिक अधिकार नहीं माना जाता है, लेकिन पदोन्नति के लिए विचार को मौलिक अधिकार के रूप में विकसित किया गया है। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा है कि शीर्ष अदालत ने बार-बार पदोन्नति के लिए विचार किए जाने के अधिकार को मौलिक अधिकार बनाने पर जोर दिया है।


पीठ ने कहा है कि इससे पहले भी संविधान पीठ ने अजीत सिंह मामले में कहा था कि कोई व्यक्ति जो पदोन्नति के लिए पात्रता व मानदंड को पूरा करता है फिर भी उसकी पदोन्नति पर विचार नहीं किया जाता है तो यह उसके मौलिक अधिकार का उल्लंघन होगा। शीर्ष अदालत ने चार दिसंबर, 2019 के इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को निरस्त करते हुए एक बार फिर इस सिद्धांत पर जोर दिया। हाईकोर्ट ने कनिष्ठ इंजीनियरों के एक समूह द्वारा राज्य सरकार के लघु सिंचाई विभाग द्वारा पदोन्नति से इनकार करने के खिलाफ दायर याचिका को खारिज कर दिया था।

।तो मेधावी भी वंचित रह जाएंगे शीर्ष अदालत ने कहा कि लघु सिंचाई विभाग की विचाराधीन वरिष्ठता सूची को खत्म किया ही जाना चाहिए। शीर्ष अदालत के कहा है कि यदि वरिष्ठता सूची को कायम रखने की अनुमति दी जाती है तो कृषि स्ट्रीम के कनिष्ठ इंजीनियरों की तुलना में मैकेनिकल और सिविल स्ट्रीम में अधिक मेधावी इंजीनियर पदोन्नति के लिए विचार किए जाने के अधिकार से वंचित हो जाएंगे।

■ वास्तव में उन्हें पदोन्नत होने का यह अधिकार तब मिल पाएगा जब समान चयन प्रक्रिया में कृषि स्ट्रीम के सभी कनिष्ठ अभियंताओं का चयन हो जाएगा और वे पदोन्नत हो जाएंगे।

👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇