विद्यालयों के शीतकालीन अवकाशों पर चल सकती है कैंची


झांसी। शीतकालीन अवकाश का समय नजदीक है लेकिन सत्र प्रारंभ होने में देरी के कारण ही कक्षाएं बाधित हुई थीं, इसे लेकर अर्द्धवार्षिक परीक्षाओं के बाद कक्षाएं सुचारू रूप से चलती रहेंगी। विद्यालयों का शीतकालीन अवकाश रद्द कर दिया गया है।





कोरोना और लॉकडाउन की वजह से पढ़ाई बुरी तरह से बाधित हुई है लेकिन इस सत्र में विद्यालय प्रबंधन ने पूरी कोशिश की थी कि बच्चों की पढ़ाई बाधित ना हो। ब्लू बेल्स के प्रधानाचार्य डॉ. नितिन विलियम्स ने बताया कि शीतकालीन छुट्टियां ठंड के मौसम को देखते हुए ही की जाएंगी, अन्यथा कक्षाएं सुचारू रूप से चलती रहेंगी।


जनवरी में कुछ दिनों का अवकाश मिलेगा या फिर मौसम के अनुसार जिलाधिकारी के आदेशानुसार ही विद्यालय बंद होंगे। वार्षिक परीक्षाओं फरवरी मार्च के बीच होंगी, उसके पहले तक बच्चों का पाठ्यक्रम भी पूरा करवाना है। परीक्षाएं समाप्त होने के बाद विद्यालयों में कक्षाएं चालू हो जाएंगी।


वहीं डॉ प्रीति खत्री ने कहा कक्षाएं कोरोना की नई लहर के अनुरूप ही संचालित किए जाएंगे। प्रशासन के आदेशानुसार ही छुट्टियां कभी भी हो सकती हैं। हालांकि कक्षाएं कोरोना के सभी सावधानियों के साथ ही चल रहे हैं। मास्क और सेनिटाइजर को हर बच्चे और स्कूल में मौजूद सभी के लिए अनिवार्य किया गया है।

वहीं डीआईओएस ने बताया कि अभी छुट्टियों में कोई बदलाव नहीं किया गया है समयानुसार कोरोना के प्रभाव और सर्द लहरों के रूख को देखते हुए आकस्मित फैसले लिए जा सकते हैं।

👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇