बेसिक शिक्षा विभाग: फर्जी दस्तावेजों के सहारे नौकरी करने वाले तीन शिक्षक हुए बर्खास्त - पढ़िए पूरा मामला

देवरिया: फर्जी दस्तावजों पर नौकरी job's करने वाले तीन शिक्षक Teacher गुरुवार को बर्खास्त कर दिए गए। इनमें से दो गोरखपुर और एक मऊ जिले district का रहने वाला है। बर्खास्त शिक्षकों teachers के खिलाफ विधिक कार्रवाई के निर्देश बीएसए BSA ने खंड संबंधित शिक्षाधिकारियों BIO को दिए हैं।गौरीबाजार क्षेत्र के कम्पोजिट विद्यालय हरपुर में सहायक अध्यापक Assistant teacher पद पर तैनात चंद्रशेखर के प्रमाण पत्र एसटीएफ STF लखनऊ की जांच में फर्जी पाए गए। चंद्रशेखर पुत्र अमर गोरखपुर जिले के ग्राम व पोस्ट गहिरा के निवासी हैं। 




इन्होंने गोरखपुर के पिपरौली ब्लाक के प्रावि विश्रामपुर में प्रधानाध्यापक Headmaster पद पर कार्यरत चंद्रशेखर सिंह के अंक पत्र व प्रमाण पत्रों documents के आधार पर फर्जी अंक पत्र व प्रमाण पत्र तैयार कर नौकरी job's पा ली थी। इंटरमीडिएट के अंक पत्र व प्रमाण पत्र के अंक समान मिले पर अनुक्रमांक अलग-अलग मिला।

 
जांच में मिले प्रमाण के बाद सहायक अध्यापक चंद्रशेखर को 17 फरवरी 2022 को बीएसए BSA ने नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा। इसका जवाब शिक्षक Teacher  ने नहीं दिया। 9 मार्च March को शिक्षक Teacher का वेतन बाधित कर स्पष्टीकरण मांगा गया। पुन: स्पष्टीकरण नहीं मिलने पर शिक्षक Teacher को 23 मार्च March  को बीएसए  BSA ने नोटिस Notice दिया। इसका स्पष्टीकरण 28 मार्च March को बीएसए को मिला।




इसमें शिक्षक Teacher का स्पष्टीकरण साक्ष्यहीन पाया गया। इस बीच शिक्षक कोर्ट चला गया। कोर्ट के निर्देशों के अनुरुप कार्रवाई करने के बाद बीएसए BSA ने संबंधित शिक्षक को 20 जून June को सुनवाई में कार्यालय में उपस्थित होने को कहा। इस पर शिक्षक Teacher स्वयं उपस्थित होने की जगह कार्यालय में अपना स्पष्टीकरण रिसीव करा दिया। यह स्पष्टीकरण बीएसए को संतोषजनक नहीं लगा।

 
इसके बाद बीएसए BSA ने गौरीबाजार क्षेत्र के कम्पोजिट विद्यालय हरपुर में सहायक अध्यापक पद पर तैनात चंद्रशेखर को बर्खास्त कर दिया।



दूसरा बर्खास्त शिक्षक Teacher गौरीबाजार क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय आनंद नगर में प्रधानाध्यापक Headmaster पद पर तैनात रामसमुझ पुत्र पारसनाथ है। इसने सर्विस बुक में अपना पता ग्राम व पोस्ट गहिरा जनपद गोरखपुर बताया है। जांच में इस पते पर रामसमुझ नाम का कोई व्यक्ति नहीं पाया गया। वहीं जांच में पता चला कि इस शिक्षक Teacher ने महाराजगंज जिले के पनियरा विकास क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय गिरगिटिया में तैनात रामसमुझ पुत्र पारसनाथ के अंक पत्र व प्रमाण पत्रों में वर्णित अंकों का प्रयोग कर नौकरी पाई है। हालांकि अनुक्रमांक अलग हैं। इस जांच के बाद शिक्षक Teacher को नोटिस notice देकर स्पष्टीकरण दिया गया। जवाब न मिलने पर बीएसए BSA ने वेतन बाधित कर दिया।



इसके खिलाफ शिक्षक उच्च न्यायालय चला गया। न्यायालय के आदेश का अनुपालन करते हुए जांच जारी रही। इसके बाद 20 जून June को सुनवाई में शिक्षक Teacher को उपस्थित होने का निर्देश दिया गया। पर शिक्षक Teacher स्वयं न उपस्थित होकर स्पष्टीकरण कार्यालय में रीसिव करा दिया गया। यह स्पष्टीकरण संतोषजनक नहीं पाए जाने के बाद बीएसए BSA ने गौरीबाजार क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय आनंद नगर में प्रधानाध्यापक पद पर तैनात रामसमुझ को बर्खास्त कर दिया।



तीसरा बर्खास्त शिक्षक Teacher बरहज क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय विशुनपुर देवार में प्रधानाध्यापक पद पर तैनात अश्विनी कुमार यादव पुत्र लालू राम यादव है। इसकी शास्त्री (स्नातक) और शिक्षाशास्त्री (बीएड) की डिग्री फर्जी मिली है।

 
शास्त्री की जांच बेसिक शिक्षा निदेशक के पत्र पर बीएसए BSA कार्यालय ने कराई। इसमें सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय ने किसी अन्य छात्र की प्रविष्टि और अंक पत्र फर्जी है लिखकर दे दिया। वहीं एसटीएफ लखनऊ के की जांच रिपोर्ट के आधार पर पुन: शिक्षाशास्त्री की जांच कराई गई। इसमें विश्वविद्यालय ने अपुष्टित सत्यापन आख्या में किसी अन्य छात्र की प्रविष्टि लिखकर दे दिया।



इस मामले में संबंधित प्रधानाध्याक का नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा गया। शिक्षक ने स्पष्टीकरण न देकर मेडिकल अवकाश होने की बात कही। इसे बीएसए ने कार्रवाई रोकने का कुत्सित प्रयास मानते हुए बर्खास्तगी की कार्रवाई कर दिया। बर्खास्त शिक्षक अश्विनी कुमार यादव ग्राम सहुवारी, पोस्ट देवलास, जनपद मऊ का रहने वाला है।

देवरिया: फर्जी दस्तावजों Fake Documents पर नौकरी job's करने वाले तीन शिक्षक Teacher गुरुवार को बर्खास्त कर दिए गए। इनमें से दो गोरखपुर और एक मऊ जिले district का रहने वाला है। बर्खास्त शिक्षकों teachers के खिलाफ विधिक कार्रवाई के निर्देश बीएसए BSA ने खंड संबंधित शिक्षाधिकारियों BIO को दिए हैं।गौरीबाजार क्षेत्र के कम्पोजिट विद्यालय हरपुर में सहायक अध्यापक Assistant teacher पद पर तैनात चंद्रशेखर के प्रमाण पत्र एसटीएफ STF लखनऊ की जांच में फर्जी पाए गए। चंद्रशेखर पुत्र अमर गोरखपुर जिले के ग्राम व पोस्ट गहिरा के निवासी हैं।

 
इन्होंने गोरखपुर के पिपरौली ब्लाक के प्रावि विश्रामपुर में प्रधानाध्यापक Headmaster पद पर कार्यरत चंद्रशेखर सिंह के अंक पत्र व प्रमाण पत्रों documents के आधार पर फर्जी अंक पत्र व प्रमाण पत्र तैयार कर नौकरी job's पा ली थी। इंटरमीडिएट के अंक पत्र व प्रमाण पत्र के अंक समान मिले पर अनुक्रमांक अलग-अलग मिला। जांच में मिले प्रमाण के बाद सहायक अध्यापक चंद्रशेखर को 17 फरवरी 2022 को बीएसए BSA ने नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा। इसका जवाब शिक्षक Teacher ने नहीं दिया। 9 मार्च March को शिक्षक Teacher का वेतन बाधित कर स्पष्टीकरण मांगा गया। पुन: स्पष्टीकरण नहीं मिलने पर शिक्षक Teacher को 23 मार्च March को बीएसए BSA ने नोटिस Notice दिया। इसका स्पष्टीकरण 28 मार्च March को बीएसए को मिला।



इसमें शिक्षक Teacher का स्पष्टीकरण साक्ष्यहीन पाया गया। इस बीच शिक्षक कोर्ट चला गया। कोर्ट के निर्देशों के अनुरुप कार्रवाई करने के बाद बीएसए BSA ने संबंधित शिक्षक को 20 जून June को सुनवाई में कार्यालय में उपस्थित होने को कहा। इस पर शिक्षक Teacher स्वयं उपस्थित होने की जगह कार्यालय में अपना स्पष्टीकरण रिसीव करा दिया। यह स्पष्टीकरण बीएसए को संतोषजनक नहीं लगा। इसके बाद बीएसए BSA ने गौरीबाजार क्षेत्र के कम्पोजिट विद्यालय हरपुर में सहायक अध्यापक पद पर तैनात चंद्रशेखर को बर्खास्त कर दिया।



दूसरा बर्खास्त शिक्षक Teacher गौरीबाजार क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय आनंद नगर में प्रधानाध्यापक Headmaster पद पर तैनात रामसमुझ पुत्र पारसनाथ है। इसने सर्विस बुक में अपना पता ग्राम व पोस्ट गहिरा जनपद गोरखपुर बताया है। जांच में इस पते पर रामसमुझ नाम का कोई व्यक्ति नहीं पाया गया। वहीं जांच में पता चला कि इस शिक्षक Teacher ने महाराजगंज जिले के पनियरा विकास क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय गिरगिटिया में तैनात रामसमुझ पुत्र पारसनाथ के अंक पत्र व प्रमाण पत्रों में वर्णित अंकों का प्रयोग कर नौकरी पाई है। हालांकि अनुक्रमांक अलग हैं। इस जांच के बाद शिक्षक Teacher को नोटिस notice देकर स्पष्टीकरण दिया गया।

 
जवाब न मिलने पर बीएसए BSA ने वेतन बाधित कर दिया।



इसके खिलाफ शिक्षक उच्च न्यायालय चला गया। न्यायालय के आदेश का अनुपालन करते हुए जांच जारी रही। इसके बाद 20 जून June को सुनवाई में शिक्षक Teacher को उपस्थित होने का निर्देश दिया गया। पर शिक्षक Teacher स्वयं न उपस्थित होकर स्पष्टीकरण कार्यालय में रीसिव करा दिया गया। यह स्पष्टीकरण संतोषजनक नहीं पाए जाने के बाद बीएसए BSA ने गौरीबाजार क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय आनंद नगर में प्रधानाध्यापक पद पर तैनात रामसमुझ को बर्खास्त कर दिया।



तीसरा बर्खास्त शिक्षक Teacher बरहज क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय विशुनपुर देवार में प्रधानाध्यापक पद पर तैनात अश्विनी कुमार यादव पुत्र लालू राम यादव है। इसकी शास्त्री (स्नातक) और शिक्षाशास्त्री (बीएड) की डिग्री फर्जी मिली है। शास्त्री की जांच बेसिक शिक्षा निदेशक के पत्र पर बीएसए BSA कार्यालय ने कराई। इसमें सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय ने किसी अन्य छात्र की प्रविष्टि और अंक पत्र फर्जी है लिखकर दे दिया। वहीं एसटीएफ लखनऊ के की जांच रिपोर्ट के आधार पर पुन: शिक्षाशास्त्री की जांच कराई गई। इसमें विश्वविद्यालय ने अपुष्टित सत्यापन आख्या में किसी अन्य छात्र की प्रविष्टि लिखकर दे दिया।



इस मामले में संबंधित प्रधानाध्याक का नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा गया। शिक्षक ने स्पष्टीकरण न देकर मेडिकल अवकाश होने की बात कही। इसे बीएसए ने कार्रवाई रोकने का कुत्सित प्रयास मानते हुए बर्खास्तगी की कार्रवाई कर दिया। बर्खास्त शिक्षक अश्विनी कुमार यादव ग्राम सहुवारी, पोस्ट देवलास, जनपद मऊ का रहने वाला है

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇