DBT APP:- 18 हजार डाटा सत्यापित नहीं बढ़ेगी प्रधानाध्यापकों की मुश्किल


डाइरेक्ट बेनीफिशरी ट्रांसफर के डाटा सत्यापन का कार्य अब तक नहीं हो सका पूरा
महराजगंज। जिले के परिषदीय व सहायता प्राप्त विद्यालयों में अध्ययनरत 18 हजार विद्यार्थियों के डायरेक्ट बेनीफिशरी ट्रांसफर (डीबीटी) के डाटा सत्यापन का कार्य अब तक पूरा नहीं हो सका है। सत्यापन पूरा न होने की वजह से उन प्रधानाध्यापकों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी जिनके विद्यालय में डाटा के सत्यापन का कार्य अधूरा है।



जिले के परिषदीय व सहायता प्राप्त विद्यालयों में कुल लगभग दो लाख 83 हजार विद्यार्थियों को बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से संचालित योजनाओं का लाभ प्रदान किया जाता है। स्वेटर, जूता-मोजा समेत अन्य सामग्रियों के लिए विद्यार्थियों के अभिभावकों के खाते में 1100 रुपये भेजे जाने हैं। ऐसे में ज्यादातर विद्यार्थियों के डीबीटी के डाटा के फीडिंग व सत्यापन संबंधी कार्य को पूरा करा लिया गया है। अभी भी जिले में 18 हजार विद्यार्थियों का डाटा सत्यापित नहीं हो सका है। विभागीय जिम्मेदारों ने अविलंब सत्यापन के लिए लंबित डाटा को सुधारने का निर्देश दिया है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ओमप्रकाश यादव ने बताया कि लंबित डाटा को संबंधित विद्यालयों के प्रधानाध्यापक अविलंब सत्यापित कर दें। इसमें किसी प्रकार की शिथिलता न बरती जाए। शिथिलता पर जिम्मेदारों के विरुद्ध कार्रवाई होगी। 

👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇