इस मामले की वजह से 4 प्रधानाध्यापक निलंबित, 44 शिक्षक, शिक्षकाएं व अनुदेशकों का रोका गया मानदेय


 इस मामले की वजह से 4 प्रधानाध्यापक निलंबित, 44 शिक्षक, शिक्षकाएं व अनुदेशकों का रोका गया मानदेय



कौशाम्बी. जिले में बेसिक शिक्षा विभाग के अफसरों ने कड़ा और सरसावा ब्लाक का औचक निरीक्षण किया। जिसमें परिषदीय स्कूलों में नियुक्त शिक्षकों की लापरवाही सामने आ गई। बीएसए ने ताला बंद स्कूलों के 4 हेडमास्टरों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।वहीं गैरहाजिर शिक्षकों का वेतन व अनुदेशक का मानदेय रोक दिया है। महानिदेशक बेसिक शिक्षा ने बीएसए को हफ्ते भर का अभियान चलाकर परिषदीय विद्यालयों का औचक निरीक्षण करते हुए शिक्षकों की नियमित उपस्थिति, समय सारिणी के अनुसार विद्यालय का संचालन, निपुण भारत मिशन के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए पठन-पाठन व अन्य विद्यालयी क्रियाकलापों को दुरुस्त करने का निर्देश दिए हैं।इसी क्रम में बीएसए ने सभी खण्ड शिक्षा अधिकारियों एवं जिला समन्वयकों समेत 15 अफसरों की टीम के साथ कड़ा ब्लॉक और सरसवां ब्लाक क्षेत्र के परिषदीय स्कूलों का सुबह औचक निरीक्षण किया। बीएसए प्रकाश सिंह ने बताया कि अफसरों की टीम ने क्षेत्र के 139 विद्यालयों का निरीक्षण किया। इस दौरान कंपोजिट विद्यालय जफरपुर, प्राथमिक विद्यालय नज्जू का पूरा एवं किरहियापर समेत तीन स्कूलों का सुबह 7:45 बजे तक ताला नहीं खुला था। मौके पर न तो कोई शिक्षक था और न ही कोई विद्यार्थी।


ताला बंद मिले इन विद्यालयों के प्रधानाध्यापक को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। सरसवां के भी एक प्रधानाध्यापक को निलंबित किया गया। इसके अलावा निरीक्षण किए गए अन्य विद्यालयों में 44 शिक्षक, शिक्षकाएं एवं अनुदेशक गैरहाजिर मिले है बगैर किसी सूचना के ड्यूटी से गैरहाजिर शिक्षकों वेतन और अनुदेशकों का मानदेय रोक दिया गया है।

UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु NOTES 👇