फर्जी डिग्री पर नौकरी कर रहा हेडमास्टर बर्खास्त, 15 साल पहले बस्ती में फर्जी तरीके से हुई थी नियुक्ति


बलिया जनपद में कार्यरत एक शिक्षक के शैक्षिक प्रमाण पत्र पर पिछले 15 साल से नौकरी करने के आरोप में जांच के बाद बीएसए ओपी यादव ने धानी क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय कोइलाडाड़ के प्रधानाध्यापक अखिलेश कुमार पांडेय को प्रथम नियुक्ति तिथि से ही बर्खास्त कर दिया। इस मामले में बीएसए ने एफआईआर दर्ज कराने का आदेश बीईओ धानी को दिया है। इस कार्रवाई से बेसिक शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है। अभी भी तीन-चार शिक्षकों की नियुक्ति में फर्जीवाड़े की शिकायत की जांच चल रही है। बलिया जनपद के प्राथमिक विद्यालय सकरपुरा, शिक्षा क्षेत्र 15 में प्रधानाध्यापक पद


पर तैनात अखिलेश कुमार पांडेय ने 16 अक्तूबर 2021 को एक शिकायत की थी। कहा था कि उनके नाम पर महराजगंज जिले के धानी क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय कोइलाडाड़ में अखिलेश कुमार पांडेय प्रधानाध्यापक पद पर फर्जी नौकरी कर रहा है। असली प्रधानाध्यापक ने अपना व फर्जी प्रधानाध्यापक का मानव सम्पदा आईडी भी दिया। बताया कि फर्जी व्यक्ति ने उनके अंक व प्रमाण पत्र को लगाकर विशिष्ट बीटीसी 2006 की भर्ती में अपना चयन करा लिया। नाम से केवल पांडेय शब्द हटा दिया। जबकि अंक पत्र व प्रमाण उनका ही लगाया है। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए बीएसए ने जांच शुरू की। प्राथमिक विद्यालय कोइलाडाड़ के प्रधानाध्यापक अखिलेश कुमार पांडेय को 28 अक्तूबर को सुनवाई के लिए सभी साक्ष्य के साथ उपस्थित होने का निर्देश दिया। लेकिन कोइलाडाड़ के प्रधानाध्यापक जांच के लिए उपस्थित नहीं हुए। 27 नवंबर को विभाग ने पंजीकृत डॉक से नाम-पता पर पत्र भेजा। छह दिसंबर को सुनवाई के लिए उपस्थित होने का आदेश दिया। आरोपित प्रधानाध्यापक अपना पक्ष रखने के लिए फिर उपस्थित नहीं हुए। डॉक विभाग ने यह कहते हुए मूल पत्र वापस कर दिया कि पता करने के बाद भी अखिलेश कुमार पांडेय का पता नहीं चल पा रहा है।

15 साल पहले बस्ती में फर्जी तरीके से हुई थी नियुक्ति

बलिया के शिक्षक के नाम व प्रमाण पत्र पर फर्जी शिक्षक ने बस्ती जनपद के प्राथमिक विद्यालय तरैनी शिक्षा क्षेत्र गौर में कराया था। 11 जुलाई 2013 को महराजगंज जिले में अंर्तजनपदीय स्थानांतरण करा लिया। 16 सितंबर 2013 को अखिलेश कुमार पांडेय को धानी क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय कोइलाडाड़ में प्रधानाध्यापक पद पर नियुक्त किया गया।


कोइलाडाड़ के प्रधानाध्यापक अखिलेश कुमार पांडेय के खिलाफ शिकायत मिली थी कि उनकी नियुक्ति कूटरचित दस्तावेज के आधार पर हुई है। शिकायत की जांच में अखिलेश कुमार पांडेय को कई बार नोटिस जारी कर सुनवाई के लिए बुलाया गया, लेकिन वह उपस्थित नहीं हुए। जांच रिपोर्ट के आधार पर अखिलेश पांडेय की नियुक्ति प्रथम नियुक्ति तिथि से निरस्त कर दी गई है। -ओपी यादव, बीएसए


👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇